छत्तीसगढ़ में पशुपालन | Chhattisgarh me Pashupalan

छत्तीसगढ़ में पशुपालन Chhattisgarh me Pashupalan

नोट :- यहाँ पालन शब्द बड़े ही अच्छे से किया जाता है लेकिन पशुओ को पालन नहीं उनकी जान लेकर उनके मांस खाने से तात्पर्य है ।

पशुओ की संख्या :- 1.50 करोड़ 

  1. गाय :- 98.13 लाख 
  2. बकरी :- 32.25 लाख 
  3. भैस :- 13.90 लाख 
  4. सुवर :- 4.39 लाख 
  5. भेड़ :- 1.68 लाख

छत्तीसगढ़ प्रजनन केंद्र 

पशु प्रजनन केंद्र 
  1. अंजोरा ( दुर्ग ) सबसे बड़ा
  2. सरकंडा बिलासपुर
  3. पकरिया पेंड्रा बिलासपुर
  4. चंद्रखुरी रायपुर
बकरी प्रजनन केंद्र 
  1. पकरिया पेंड्रा बिलासपुर
  2. सरोरा रायपुर
  3. रामपुर ( ठाठापुर ) कवर्धा
सुवर प्रजनन केंद्र 
  1. सकोला सरगुजा
  2. परचनपाल बस्तर
  3. कुनकुरी जशपुर
पशु वीर्य संग्रहालय 
  1. राजनांदगाव
  2. रायगढ़
  3. बिलासपुर
  4. रायपुर
  5. दुर्ग ( सबसे बड़ा )
  6. अंबिकापुर
  7. जगदलपुर
तरल नेत्रजन 
  1. रायगढ़
  2. बिलासपुर
  3. दुर्ग
  4. रायपुर
  5. अंबिकापुर
  6. जगदलपुर
कुकुट पालन प्रक्षेत्र 
  1. रायगढ़
  2. बिलासपुर
  3. दुर्ग
  4. जगदलपुर
  5. बैकुंठपुर
  6. सरगुजा
  7. दंतेवाड़ा
राज्य सहकारी दुग्ध महासंघ 
  • रायपुर (1983)
  • ब्रांड :- साँची
  • 2011 :- देवभोग
दूध  प्रौधोगिक महाविद्यालय  रायपुर ( 1983 )
कामधेनु विश्वविद्यालय  अंजोरा , दुर्ग (2012)
सबसे बड़ा पशुबज़ार  भैंसथान , रायपुर
प्राचीन पशुबज़ार  रतनपुर , बिलासपुर


क्या आप जानते है ?

गौं वंशीय क्रम 

  1. गाय 
  2. बकरी 
  3. भैस 
  4. भेड़ 


पशु उत्पादन 

उत्पादन  प्रति व्यक्ति खपत 
दूध 132 ग्राम प्रतिदिन
अंडा ( इसमें शाकाहारी  लोगो को भी गिना गया है लेकिन वो नहीं खाते है ) 57 अंडा प्रतिवर्ष
मांस ( इसमें शाकाहारी  लोगो को भी गिना गया है लेकिन वो नहीं खाते है ) 1.50 KM  प्रतिवर्ष


पशु पालन के लिए कदम 

पशु चिकित्सालय 300
पशु औषधालय 797
पशु चल चिकित्सालय 25
रोग अनुसन्धान  केंद्र 18
कृत्रिम गर्भाधान केंद्र 22
मोटर साइकिल यूनिट 20
एम्बुलेटरी यूनिट 10
हिमीकृत वीर्य गर्भाधान 251


मत्सय पालन

  • छत्तीसगढ़ के 1.48 लाख हेक्टेयर में मछली पालन किया जाता है ।
  • छत्तिसगर में मछवारों की संख्या :- 44111 लोग है ।
  • छत्तीसगढ़ में मछुवा समितियों की संख्या – 1326 है ।
  • तालाब व नहर को 10 साल के लिए सर्कार लीज ( किराया ) पर देती है , मछुवारे समितियों लेती   है ।
  • बंद ऋतू में मछुवारो को 900 रु  मासिक आर्थिक सहायता दिया जाता है ।
  • भारत में मछली उत्पादन में छत्तीसगढ़ का स्थान 8  वा है ।
  • मछली पालन विकास धमतरी में 1975 से चल रहा है । विश्व बैंक के सहयोग से ।
  • गाम्ब्राजिया मछली :- मच्छर के लार्वा को कहती है
  • कैट फिश ( Cat Fish ) मछली को हिंदी में मांगुर मछली कहते है तो वही इसे छत्तीसगढ़ी में मोंगरी मछली कहते हिअ .

नोट :- यह संरक्षित ( मार नहीं सकते है ) मछली है ।

इन्हे जरूर पढ़े :-

👉छत्तीसगढ़ की गुफाये

👉छत्तीसगढ़ में कृषि

👉छत्तीसगढ़ की मिट्टिया

👉छत्तीसगढ़ में नदियों किनारे बसे शहर

👉छत्तीसगढ़ में सिंचाई व्यवस्था

Leave a Reply