कृषि यंत्रीकरण किसे कहते है ? Krishi Yantrikaran Kise Kahte hai

1.4/5 - (17votes)

कृषि यंत्रीकरण किसे कहते है ? Krishi Yantrikaran Kise Kahte hai

कृषि में यंत्रीकरण से अर्थ यांत्रिक शक्ति द्वारा उन क्रियाओं को करने से है जो सामान्यतः बैलों अन्य पशुओं या मानवीय शक्तियों द्वारा सम्पन्न की जाती है।

उदाहरण – जुताई-बुवाई हेतु हल के स्थान पर ट्रेक्टर,
                फसल काटने हेतु – हार्वेस्टर, थ्रेसर
                सिंचाई हेतु-पंप सेट, स्प्रिंकलर, ड्रिप सिंचाई

कृषि उपकरणों की विशिष्टताएं भारतीय मानक ब्यूरो द्वारा तैयार की जाती वही इन्हें मानकीकृत करता है।

कृषि यंत्रीकरण के पक्ष में तर्क

  • प्रति हेक्टेयर उत्पादन में वृद्धि- खाद्यान्न में आत्मनिर्भरता प्राप्त करने में सहायक
  • उत्पादन लागत में कमी, कार्य शीघ्रता से कृषकों की आय में वृद्धि, उसर भूमि को कृषि योग्य बनाने में सहायक
  • बड़े पैमाने पर कृषि संभव- कृषि का व्यवसाय के रूप में विकास
  • श्रम की कुशलता में वृद्धि : कृषि कर्म में सुधार
  • उपभोक्ताओं का लाभ : सस्ता खाद्य-Krishi Yantrikaran Kise Kahte hai
  • सहायक उद्योगों का विकास- रोजगार में वृद्धि

कृषि यंत्रीकरण की सीमितताएँ 

  • छोटे एवं बिखरे खेत
  • पूंजी का अभाव
  • बेरोजगारी का भय
  • पशु शक्ति का आधिक्य
  • कृषकों में अशिक्षा
  • ईंधन की कमी

कृषि संबंधी महत्वपूर्ण जानकारी

मिश्रित कृषि (Mixed Farming) –

  • जब कृषि के साथ पशुपालन, रेशमकीट पालन, मधुमक्खी पालन, कुक्कुटपालन, मछलीपालन आदि भी किया जाता है तो इसे मिश्रित कृषि कहा जाता है.

मिश्रित शस्यन (Mixed Cropping)-

  • जब भूमि की उर्वरा शक्ति को बनाए रखने एवं कीटों से रक्षा के लिए एक साथ एक से अधिक फसल एक खेत में ली जाती है तो उसे मिश्रित शस्यन कहा जाता है. जैसे- कपास के साथ भिंडी उगाने से कपास को ब्लेक आर्म से बचाया जा सकता है.-Krishi Yantrikaran Kise Kahte hai

स्थानांतरित या झूम कृषि (Shift Cultivation )-

  • इस प्रकार की कृषि में सर्वप्रथम जंगल को काटा जाता है एवं उसे सुखाने- जलाने के बाद कृषि करके 2-3 फसल लिया जाता है, भूमि की उर्वरता समाप्त होने पर नए स्थान पर किसी अन्य जंगल को काटा जाता है. इस प्रकार की खेती आदिवासी समुदायों द्वारा की जाती है. यह खेती वनों के विनाश का प्रमुख कारण है.

वाणिज्यिक या नकदी फसलें-

  • व्यापारिक फसलें वे फसलें जिन्हें उगाने का मुख्य उद्देश्य व्यापार करके धन अर्जित करना होता है. ये फसलें प्राय: कच्चे माल के रूप में प्रयोग की जाती हैं. इन फसलों में प्रमुख रूप से सम्मिलित हैं
  • तिलहन फसलें->मूंगफली, सरसों, तिल, अलसी, अण्डी, सोयाबीन और सूर्यमुखी आदि
  • शर्करा युक्त फसलें->गन्ना और चुकन्दर आदि
  • रेशे वाली फसलें->जूट, मेस्टा, सनई, कपास आदि
  • उद्दीपक फसलें->तम्बाकू, अफीम आदि
  • पेय फसलें->चाय, कहवा आदि

फसलों का मौसम आधारित वर्गीकरण

भारत में मोटे तौर पर तीन फसल ऋतुएं होती है- खरीफ, रबी और जायद,

खरीफ:-

  • इसकी बुआई जून-जुलाई में एवं कटाई अक्टूबर-नवंबर में होती है. इन फसलों के लिए अधिक पानी एवं आर्द्रता की आवश्यकता होती है,
  • मुख्य फसलें– धान, ज्वार, बाजरा, मक्का, सोयाबीन, कपास, मूंगफली, गन्ना,अरहर आदि.

रबी:-

  • इसकी बुआई अक्टूबर-नवम्बर एवं कटाई मार्च-अप्रैल में होती है. इसमें खरीफ की अपेक्षा कम पानी की आवश्यकता होती है,
  • मुख्य फसलें- गेहूं, जौ, चना, मटर, ज्वार, अलसी, तोरिया और सरसों.

जायद फसलें-

  • यह ग्रीष्म की एक छोटी फसल ऋतु है.
  • मुख्य फसलें- तरबूज, ककड़ी, खीरा, खरबूज.

उर्वरक

  • चीन और अमेरिका के बाद भारत विश्व में रासायनिक उर्वरकों का सबसे बड़ा उत्पादक और उपभोक्ता देश है।
  • भारत में नाइट्रोजन, फास्फेट, पोटैशियम उर्वरकों का अनुशंसित उपयोग अनुपात क्रमश: 4: 2 : 1 है.

कृषि जोत

कृषि जोतों का वर्गीकरण

  • सीमान्त जोत->1 हैक्टेयर से कम
  • लघु जोत-> 1-2 हैक्टेयर तक (1.00 < 2.00)
  • अर्द्ध मध्यम जोत-> 2-4 हैक्टेयर तक (2.00 < 4.00)
  • मध्यम जोत->4-10 हैक्टेयर तक (4.00 < 10.00)
  • वृहत जोत->10 हैक्टेयर या उससे ज्यादा
  • कृषि गणना के अनुसार 2015-16 में भारत में कृषि जोतों का औसत आकार 1.08 हैक्टेयर है.
  • देश में 86.1% किसान सीमान्त एवं लघु कृषक हैं जिनके पास कुल क्रियाशील कृषि क्षेत्रफल का केवल 46.9% है.-Krishi Yantrikaran Kise Kahte hai
  • छत्तीसगढ़ में कृषि जोतों का औसत आकार लगभग 1.24 हैक्टेयर है.

देश में राज्यवार क्रियाशील कृषि जोतों का औसत आकार

  1. सर्वाधिक–नगालैण्ड में (4.87 हे.)
  2. सबसे कम–केरल में (0.18 हे.)

कृषिगत लागत व मूल्य आयोग

1965 में स्थापना, यह आयोग विभिन्न कृषि वस्तुओं के लिए न्यूनतम समर्थन कीमतों, वसूली कीमतों तथा जारी कीमतों की सिफारिश करता है.

मूल्य नीति

समर्थन मूल्य Minimum Support Price

  • समर्थन कीमतें किसानों द्वारा उत्पादित फसलों को खरीदने के लिए सरकार द्वारा घोषित न्यूनतम मूल्य है. इस मूल्य पर सरकार किसानों की उपज को खरीदती है. यह किसानों को मूल्य सुरक्षा प्रदान कर लाभप्रद मूल्य सुनिश्चित करती है.
  • इस योजना को 1966 में आरंभ किया गया था। प्रतिवर्ष केन्द्र सरकार द्वारा 25 प्रमुख कृषि फसलों के लिए MSP की घोषणा की जाती है। जिसमें खरीफ सीजन की 14 फसलें, रबी सीजन की 7 फसलें एवं 4 अन्य वाणिज्यिक फसलें शामिल हैं।-Krishi Yantrikaran Kise Kahte hai

वसूली कीमत Procurement Price

  • सार्वजनिक वितरण प्रणाली से बेचे जाने वाले सामान को सरकार बाजार से खरीदती है. यह खरीदी जिस मूल्य पर की जाती है उसे ही वसूली कीमत कहते हैं. वसूली कीमत पर सरकार खाद्यान्नों को बाजार से व्यापारी की भांति खरीदती है. इसी कीमत पर बफर भंडारों के लिए भी खरीदी की जाती है.

जारी कीमत Issue Price

  • इस कीमत पर सार्वजनिक वितरण प्रणाली के माध्यम से सरकार उपभोक्ताओं को खाद्यान्न बेचती है. किसे कहते है

 

😀 😃नीचे में CG vyapam ADEO का पूरा सिलेबस दिया गया है इन्हे भी पढ़े😀 😃 👇

आजीविका

1.अर्थव्यस्था में कृषि की भूमिकाक्लिक करे
2.हरित क्रांतिक्लिक करे
3.कृषि में यंत्रीकरणक्लिक करे
4.कृषि सम्बन्धी महत्वपूर्ण जानकारियाक्लिक करे
5.कृषि सम्बंधित महत्वपूर्ण योजनाएक्लिक करे
6.राज्य के जैविक ब्रांडक्लिक करे
7.शवेत क्रांतिक्लिक करे
8.राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशनक्लिक करे
9.दीनदयाल उपाध्याय राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन बिहानक्लिक करे
10.दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौसल योजनाक्लिक करे
11.आजीविका एवं ग्रामोद्योगक्लिक करे
12.ग्रामोद्योग विकास के लिए छत्तीसगढ़ शासन के प्रयत्नक्लिक करे
13.संस्थागत विकास- Cg Vyapam ADEO Notes | Cg vyapam ADEO Book pdf Downloadक्लिक करे
15.आजीविका हेतु परियोजना प्रबंध सहकारिता एवं बैंकक्लिक करे
16.राज्य में सहकारिताक्लिक करे
17.सहकारी विपरणक्लिक करे
18.भारत में बैंकिंगक्लिक करे
19.सहकारी बैंको की संरचनाक्लिक करे
20.बाजारक्लिक करे
21.पशु धन उत्पाद तथा प्रबंधक्लिक करे
22.छत्तीसगढ़ में पशु पालनक्लिक करे
23.पशु आहारक्लिक करे
24.पशुओ में रोग-Cg Vyapam ADEO Notes | Cg vyapam ADEO Book pdf Downloadक्लिक करे
25.मतस्य पालनक्लिक करे

 

ग्रामीण विकास की फ्लैगशिप योजनाओ की जानकारी

1.महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार योजनाक्लिक करे
2.महात्मा गाँधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम की विशेषताएंक्लिक करे
3.सुराजी गांव योजनाक्लिक करे
4.स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजनाक्लिक करे
5.इंदिरा आवास योजना-Cg Vyapam ADEO Notes | Cg vyapam ADEO Book pdf Downloadक्लिक करे
6.प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण)क्लिक करे
7.प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजनाक्लिक करे
8.मुख्यमंत्री ग्राम सड़क एवं विकास योजनाक्लिक करे
9.मुख्यमंत्री ग्राम गौरव पथ योजनाक्लिक करे
10.श्यामा प्रसाद मुखर्जी रूर्बन मिशनक्लिक करे
11.अटल खेतिहर मजदूर बीमा योजनाक्लिक करे
12.आम  आदमी बिमा योजनाक्लिक करे
12.स्वच्छ भारत अभियान (ग्रामीण)क्लिक करे
13.सांसद आदर्श ग्राम योजनाक्लिक करे
14.विधायक आदर्श ग्राम योजनाक्लिक करे
17.पंचायत एवं समाज कल्याण विभाग की योजनाएक्लिक करे
19.निशक्त जनो के लिए योजनाएक्लिक करे
20..सामाजिक अंकेक्षण-Cg Vyapam ADEO Notes | Cg vyapam ADEO Book pdf Downloadक्लिक करे
21.ग्रामीण विकास योजनाए एवं बैंकक्लिक करे
22.सूचना का अधिकार अधिनियम 2005क्लिक करे
21.जलग्रहण प्रबंधन : उद्देश्य एवं योजनाएक्लिक करे
22.छत्तीसगढ़ में जलग्रहण प्रबंधनक्लिक करे
23.नीरांचल राष्ट्रीय वाटरशेड परियोजनाक्लिक करे

 

पंचायतरी राज व्यवस्था 

1.पंचायती राज व्यवस्थाक्लिक करे
2.73 वाँ संविधान संशोधन अधिनियम 1992 : सार-संक्षेपक्लिक करे
 3.73 वाँ संविधान संशोधन के प्रावधानक्लिक करे
4.छत्तीसगढ़ पंचायत राज अधिनियमक्लिक करे
5.छत्तीसगढ़ में पंचायती राज व्यवस्था से सम्बंधित प्रश्नक्लिक करे
6.ग्राम सभा से सम्बंधित प्रश्नक्लिक करे
6.अनुसूचित क्षेत्रों में पंचायतों के लिए विशिष्ट उपबंध  से सम्बंधित प्रश्नक्लिक करे
7.पंचायत की स्थापना से सम्बंधित प्रश्न -Cg Vyapam ADEO Notes | Cg vyapam ADEO Book pdf Downloadक्लिक करे
8.पंचायतों के कामकाज -संचालन तथा सम्मिलन की प्रक्रिया से सम्बंधित प्रश्नक्लिक करे
10.ग्राम पंचायत के कार्य से सम्बंधित प्रश्नक्लिक करे
11.पंचायतों की स्थापना, बजट तथा लेखा से सम्बंधित प्रश्नक्लिक करे
12.कराधान और दावों की वसूली से सम्बंधित प्रश्नक्लिक करे
13.पंचायतो पर निर्वाचन का संचालन नियंत्रण एवं उपविधियाँ से सम्बंधित प्रश्नक्लिक करे
16.शास्तियाँ-Cg Vyapam ADEO Notes | Cg vyapam ADEO Book pdf Downloadक्लिक करे
17.14 वा वित्त आयोग से सम्बंधित प्रश्नक्लिक करे
18.15 वाँ वित्त आयोग क्या थाक्लिक करे

 

Leave a Comment