छत्तीसगढ़ में विधायिका | Chhattisgarh me Vidhayika

Rate this post

छत्तीसगढ़ में विधायिका | Chhattisgarh me Vidhayika

संसद में राज्य का प्रतिनिधित्व

  • राज्यसभा सीट : 5
  • लोकसभा सीट : 11

लोकसभा सीटों में आरक्षण

  • अनुसूचित जाति (SC) : 1
  • अनुसूचित जनजाति (ST) : 4
  • अनारक्षित (Unreserved) : 6

स्मरणीय

  • मिनीमाता : छत्तीसगढ़ की पहली महिला सांसद
  • विद्याचरण शुक्ल : छत्तीसगढ़ से सर्वाधिक 9 बार चुने गए सांसद
  • इंग्रिड मेक्लाउड : 14वीं एवं 15वीं लोकसभा में मनोनीत एंग्लो इंडियन सांसद, ये मूलत: छत्तीसगढ़ से हैं।( छत्तीसगढ़ में विधायिका | Chhattisgarh me Vidhayika )

छत्तीसगढ़ से राज्य सभा सदस्य

  1. राजवीर शुक्ला-INC
  2. रंजीत रंजन-INC
  3. फूलो देवी नेताम-INC
  4. के टी स सुलसी-INC
  5. सरोज पांडेय  -BJP

राज्य विधायिका के अंग

  1.  राज्यपाल
  2.  विधान सभा
    नोट- छत्तीसगढ़ में विधान परिषद् अस्तित्व में नहीं है.

विधानसभा सीट एवं सदस्य संख्या

  • विधानसभा सीट : 90

नोट- प्रतिनिधित्व न होने पर राज्यपाल एक विधायक एंग्लो इंडियन समुदाय से मनोनीत कर सकते थे, परन्तु 104धे संविधान संशोधन द्वारा यह प्रावधान समाप्त कर दिया गया है.

विधानसभा में आरक्षण

अनुसूचित जाति (SC) : 10
अनुसूचित जनजाति (ST): 29
अनारक्षित (Unreserved): 51
कुल विधानसभा सीट : 90

छत्तीसगढ़ विधानसभा में मनोनीत एंग्लो इंडियन विधायक

  • प्रथम विधानसभा : श्रीमती इंग्रिड मेक्लाउड
  • चौथी विधानसभा : बर्नार्ड जोसेफ रोड्रिक्स

छत्तीसगढ़ विधान सभा का पहला सत्र

  • आरंभ : 14 दिसम्बर, 2000 को
  • स्थान : जशपुर हॉल, राजकुमार कॉलेज, रायपुर
  • अध्यक्षता : महेन्द्र बहादुर सिंह (प्रोटेम स्पीकर)

एक नजर में

1. विधानसभा भवन :रायपुर
2. विधानसभा भवन का नाम : मिनीमाता
3. मंत्रालय भवन का नाम: महानदी
4. विभागाध्यक्ष भवन का नाम : इन्द्रावती

नवा रायपुर-अटल नगर में स्थित है

  • मंत्रालय/सचिवालय भवन का नाम : महानदी भवन
  • विभागाध्यक्ष / संचालनालय भवन : इन्द्रावती भवन

वर्तमान में विधानसभा में पार्टीवार सदस्य

  • भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (INC) : 71
  • भारतीय जनता पार्टी (BJP): 14
  • जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (JCC (J) ) : 3
  • बहुजन समाज पार्टी (BSP) : 2
  • कुल विधानसभा सीट: 90

छत्तीसगढ़ के अबतक के राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री

राज्यपाल : अब तक

  • श्री दिनेश नंदन सहाय : 2000-2003 प्रथम राज्यपाल
  • ले. जनरल के. एम. सेव : 2003-2007
  • श्री सुशील कुमार शिंदे: 2005-2005
  • श्री ई. एस. एल. नरसिम्हन : 2007-2010 (कार्यवाहक)
  • श्री शेखर दत्त : 2010-2014 सबसे लम्बा कार्यकाल
  • ( छत्तीसगढ़ में विधायिका | Chhattisgarh me Vidhayika )
  • श्री रामनरेश यादव : 2014-2014 (सबसे कम अवधि)
  • श्री बलरामजी दास टंडन : 2014-2018
  • श्रीमती आनंदीबेन पटेल 15.08.2018-28.07.2019 (अति. प्रभार)
  • सुश्री अनुसुइया उइके 29.07.2019 से….

मुख्यमंत्री : अब तक

  • श्री अजीत जोगी : 01.11.2000 से 05.12.2003 तक
  • डॉ. रमन सिंह 07.12.2003 से 11.12.2008 तक
  • डॉ. रमन सिंह 12.12.2008 से 11.12.2013 तक
  • डॉ. रमन सिंह 12.12.2013 से 17.12.2018 तक
  • श्री भूपेश बघेल : 17.12.2018 से……निरंतर

परीक्षाओं में पूछे गए महत्वपूर्ण तथ्य : विधायिका

  • इस राज्य की पाँचवी विधान सभा में उपाध्यक्ष मनोज सिंह मंडावी है.
  • राज्यपाल को संतुष्ट होना चाहिए कि छत्तीसगढ़ से राज्यसभा सदस्यों को का
  • राज्य प्रशासन शासन के संघात्मक संसदीय पद्धति तथा संघात्मक अध्यक्षात्मक पद्धति में पाया जाता है
  • छत्तीसगढ़ में राज्यसभा में 5 सदस्य है।
  • ( छत्तीसगढ़ में विधायिका | Chhattisgarh me Vidhayika )
  • किसी विधानसभा की बैठक में कोरम के लिए 10% सदस्यों को उपस्थिति आवश्यक है लेकिन यह संख्या 10 से कम नहीं होना चाहिए। इसलिए छत्तीसगढ़ राज्य के विधानसभा में गणपूर्ति हेतु न्यूनतम 10 विधायकों का उपस्थिति अनिवार्य है।
  • छत्तीसगढ़ के चौथे विधानसभा के अध्यक्ष चरणदास महंत हैं।
  • जिले के प्रभारी मंत्री का कार्य उस जिले के विकास कार्यों का अनुश्रवण करना होता है।
  • श्री दिनेश नंदन सहाय छत्तीसगढ़ के प्रथम राज्यपाल थे। वर्तमान में छत्तीसगढ़ के राज्यपाल सुश्री अनुसुइया उइके हैं।
  • राम नरेश यादव छत्तीसगढ़ के भूतपूर्व राज्यपाल थे।
  • नेता प्रतिपक्ष- प्रथम नंदकुमार साय द्वितीय-महेंद्र कर्मा, तृतीय- रविंद्र चौबे, चतुर्थ- टी एस सिंहदेव, पंचम-धरमलाल कौशिक
  • भटगांव, अंबिकापुर, रायगढ़, खरसिया विधानसभा सीटें सामान्य वर्ग के लिए एवं सरायपाली, सारंगढ़ और डोंगरगढ़ सीटें अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है।
  • अनुच्छेद 169 के तहत किसी भी राज्य में विधान परिषद के सृजन अथवा उत्सादन हेतु राज्य विधानसभा से दो तिहाई बहुमत के द्वारा प्रस्ताव पारित होना चाहिए। इस प्रकार पारित विधेयक के आधार पर संसद संबंधित राज्य में विधान परिषद की स्थापना कर सकती
  • ( छत्तीसगढ़ में विधायिका | Chhattisgarh me Vidhayika )
  • छत्तीसगढ़ में राज्यपालों का क्रम इस प्रकार है- श्री दिनेश नंदन सहाय, लेफ्टिनेंट जनरल के एम सेठ, श्री ई एस एल नरसिम्हन,
  • श्री शेखर दत्त, श्री राम नरेश यादव, श्री बलराम जी दास टंडन, श्रीमती आनंदीबेन पटेल, सुश्री अनुसुइया उइके
  • राज्य को विधानसभा में अनुसूचित जाति के लिए 10 व अनुसूचित जनजाति के लिए 29 सीट आरक्षित हैं।
  • श्री कृष्ण मोहन सेठ, श्री शेखर दत्त और दिनेश नंदन सहाय छत्तीसगढ़ के राज्यपाल रहे हैं।
  • छत्तीसगढ़ में विधानसभा में सदस्यों की अधिकतम संख्या 90 हो सकती है।
  • अनुच्छेद 213 के अंतर्गत राज्यपाल को अध्यादेश जारी करने की शक्ति प्रदान की गई है। कोई अध्यादेश यदि राज्य विधानसभा द्वारा पारित हो जाता है तो राज्यपाल के हस्ताक्षर के पश्चात यह अध्यादेश अधिनियम में परिवर्तित हो जाएगा।
  • मध्य प्रदेश पुनर्गठन अधिनियम 2000 पर राष्ट्रपति के हस्ताक्षर की वास्तविक तिथि 25 अगस्त 2000 है।
  • इस राज्य के विधानसभा में 90 सदस्य निर्वाचित होते हैं।
  • श्री राजेंद्र प्रसाद शुक्ल छत्तीसगढ़ के प्रथम विधानसभा अध्यक्ष थे, श्री प्रेम प्रकाश पांडे छत्तीसगढ़ के द्वितीय विधानसभा के अध्यक्ष थे। 1937 में घनश्याम सिंह गुप्त विधानसभा अध्यक्ष चुने थे जबकि पंडित रविशंकर शुक्ल कभी विधानसभा अध्यक्ष नहीं रहे।
  • प्राचीन काल में छत्तीसगढ़ को दक्षिण कोसल कहा जाता था।
  • भारतीय संविधान के अनुच्छेद 213 के अंतर्गत राज्यपाल को अध्यादेश जारी करने की शक्ति प्रदान की गई है।
  • राज्य विधान सभा का अधिवेशन न चल रहा हो तब राज्यपाल मंत्रिपरिषद की सलाह पर अध्यादेश जारी कर सकता है, राज्यपाल को संतुष्ट होना चाहिए कि ऐसी परिस्थितियां विद्यमान है कि तत्काल कार्यवाही की जानी चाहिए।
  • ( छत्तीसगढ़ में विधायिका | Chhattisgarh me Vidhayika )
  • छत्तीसगढ़ से राज्यसभा सदस्यों की कुल संख्या 5 है।
  • छत्तीसगढ़ के वर्तमान मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल हैं।
  • मिनीमाता छत्तीसगढ़ की पहली महिला सांसद थी।
  • छत्तीसगढ़ विधानसभा भवन का नाम छत्तीसगढ़ की प्रथम महिला सांसद मिनीमाता के नाम पर रखा गया है।

Leave a Comment