जलग्रहण प्रबंधन कार्यक्रम क्या है ? Jalgrahan Prabandhan Karyakram Kya hai

Share your love
3.8/5 - (17votes)

जलग्रहण प्रबंधन कार्यक्रम क्या है ? Jalgrahan Prabandhan Karyakram Kya hai

जलग्रहण प्रबंधन

जलग्रहण प्रबंधन कार्यक्रम क्या है ? Jalgrahan Prabandhan Karyakram Kya hai : समेकित बंजर भूमि विकास कार्यक्रम (IWDP), सूखा संभावित क्षेत्र कार्यक्रम (DPAP), मरूभूमि विकास कार्यक्रम (DDP ) एवं एकीकृत जलग्रहण प्रबन्धन परियोजना (IWMP)

ग्रामीण विकास मंत्रालय का भूमि संसाधन विभाग जलग्रहण कार्यक्रमों का संचालन बेकार पड़ी जमीनों/कम उपजाऊ भूमियों के विकास के लिए कर रहा है। इन कार्यक्रमों में शामिल है

1. समेकित बंजर भूमि विकास कार्यक्रम (IWDP),
2. सूखा संभावित क्षेत्र कार्यक्रम (DPAP) तथा
3. मरूभूमि विकास कार्यक्रम (DDP)

ये पहले उनके अपने अलग अलग मार्गदर्शी सिद्धातों, मानदण्डों, वित्त पोषण पद्धति के आधार पर कार्यान्वित किये जा रहे थे। हनुमंत राव समिति की सिफारिशों के आधार पर इन क्षेत्र विकास कार्यक्रमों को 1 अप्रैल, 1995 से समान मार्गदर्शी सिद्धांतों के अनुसार कार्यान्वित किया गया।

भूमि संसाधन विभाग ने एक नई पहल हरियाली 2003 से शुरू की जिसका उद्देश्य जलग्रहण क्षेत्र विकास कार्यक्रम के क्रियान्वयन में पंचायती राज संस्थाओं की भूमिका को बढ़ाना था। इस पहल में एकीकृत बंजर भूमि विकास कार्यक्रम (IWDP), सूखा संभावित क्षेत्र कार्यक्रम (DPAP) और मरुस्थल विकास कार्यक्रम (DDP) आदि को पंचायती राज संस्थाओं (PRI) द्वारा क्रियान्वित करने का प्रावधान किया गया।

01 अप्रैल 2008 को भारत सरकार ने सभी जलग्रहण विकास कार्यों के क्रियान्वयन हेतु नये निर्देश जारी किए। इस समान मार्गदर्शी सिद्धांत वर्ष 2008 के आधार पर वर्ष 2009-10 में समेकित जलग्रहण प्रबंधन कार्यक्रम (IWMP) प्रारंभ की गई।

जलग्रहण विकास संबंधी सिद्धान्तों के उद्देश्य-

  • ग्राम समुदाय के लिए आय के सतत् स्रोत सजित करने हेतु सिंचाई, वृक्षारोपण, बागवानी, पुष्प कृषि, चरागाह विकास, मत्स्य पालन, तथा पेयजल आदि के लिए वर्षा की प्रत्येक बूंद का संग्रह करना।
  • ग्राम पंचायतों के जरिए ग्रामीण क्षेत्रों के समग्र विकास को सुनिश्चित करना।
  • गांवों में जलग्रहण प्रबंधन कार्यक्रमों को लागू करने की जिम्मेदारी माइक्रो वाटरशेड समिति को दी गई है
  • ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार सृजन, गरीबी उपशमन, सामुदायिक अधिकार तथा आर्थिक संसाधनों का विकास।
  • फसल, मानव, पशुधन पर सूखे और मरूस्थलीकरण जैसी जलवायु स्थितियों के प्रतिकूल प्रभावों को कम करना। पारिस्थितिकीय संतुलन को पुनः कायम करना।
  • जल संग्रहण क्षेत्र में सृजित परिसम्पत्तियों के प्रबंधन एवं अनुरक्षण तथा प्राकृतिक संसाधनों की शक्यता के विकास हेतु ग्राम समुदाय को प्रोत्साहित करना। साधारण, सरल और सस्ते तकनीकी उपाय, संस्थागत व्यवस्था तथा स्थानीय तौर पर उपलब्ध तकनीकी ज्ञान और उपलब्ध सामग्री के उपयोग को बढ़ावा देना।

शामिल कार्यक्रम

सूखा संभावित क्षेत्र कार्यक्रम

सूखा संभावित क्षेत्र कार्यक्रम ( DPAP – DROUGHT PRONE AREAS PROGRAMME)

सूखा संभावित क्षेत्र कार्यक्रम (DPAP) केन्द्र सरकार ने उन क्षेत्रों, जहां पर लगातार भयंकर सूखे की स्थिति बनी रहती है, की विशेष समस्याओं को हल करने के लिए वर्ष 1973-74 में शुरू किया था। कार्यक्रम का मूल उद्देश्य फसलों के उत्पादन, पशुधन तथा भूमि की उत्पादकता, जल और मानव संसाधनों पर पड़ने वाले सूखे के प्रतिकूल प्रभावों को कम करना है तथा इसके द्वारा अंततः प्रभावित क्षेत्रों को सूखे के प्रभाव से मुक्त कराना है।

मरू विकास कार्यक्रम (DDP)

मरूभूमि विकास कार्यक्रम (DDP) को राजस्थान में वर्ष 1977-78 में शुरू किया गया था। इस कार्यक्रम की परिकल्पना भूमि, जल, पशुधन और मानव संसाधनों के संरक्षण, विकास और इन्हें उपयोग में लाकर पारिस्थितिकीय संतुलन की बहाली के लिए एक दीर्घकालिक उपाय के रूप में की गई थी। इसका उद्देश्य ग्रामीण समुदाय के आर्थिक विकास को बढ़ाना और ग्रामीण क्षेत्रों में समाज के संसाधनहीन गरीब लोगों और समाज के | उपेक्षित वर्गों की आर्थिक स्थिति में सुधार लाना है।

समेकित बंजर भूमि विकास कार्यक्रम

समेकित बंजर भूमि विकास कार्यक्रम (IWDP) ( IWDP— Intergrated wasteland development project ) जो केन्द्र द्वारा प्रायोजित कार्यक्रम है, वर्ष 1989-90 से कार्यान्वित किया जा रहा है। इस कार्यक्रम के अन्तर्गत बंजरभूमि और अवक्रमित भूमि के विकास से सभी स्तरों पर लोगों की भागीदारी को बढ़ाए जाने के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के अवसरों के सृजन में वृद्धि होने की आशा की जाती है जिससे भूमि के सतत विकास और लाभों के समान वितरण में सहायता मिलती है।

एकीकृत जलग्रहण प्रबंधन परियोजना (IWMP)

भारत सरकार द्वारा जलग्रहण विकास कार्यक्रमों की क्रियान्वयन हेतु समान दिशा-निर्देश जारी किये गये है, जलग्रहण परियोजनाओं के लिए भारत सरकार द्वारा जारी समान मार्गदर्शी सिद्धांत वर्ष 2008 (संशोधन 2011) के आधार पर वर्ष 2009-10 में समेकित जलग्रहण प्रबंधन कार्यक्रम (IWMP) प्रारंभ की गई। \\^

  • ये परियोजनाएं, परियोजना कार्यान्वयन एजेंसियों (PIA) के माध्यम से जिला ग्रामीण विकास एजेंसियों/ जिला परिषद (डीआरडीए/जेडपी) द्वारा कार्यान्वित की जाती हैं। PIA राज्य सरकार का कोई विभाग, पंचायती राज संस्था या एक प्रतिष्ठित NGO हो सकती है।
  • यह भारत सरकार के फ्लैगशिप कार्यक्रमों में से एक है जो 28 राज्यों में संचालित है। एकीकृत वाटरशेड प्रबंधन कार्यक्रम चीन के बाद विश्व का द्वितीय सबसे बड़ा वाटरशेड कार्यक्रम है।

छत्तीसगढ़ में जलग्रहण क्षेत्र प्रबंधन

राज्य के लिए वाटरशेड परियोजनाओं का बहुत ही महत्व है, खास कर राज्य के उत्तरी एवं दक्षिणी भागों में जहां कृषि योग्य भूमि का अधिकांश हिस्सा वर्षा आधारित है। वर्षा आधारित क्षेत्रों में बढ़ती गरीबी, पेयजल की कमी, भू-जल स्तर में तेजी से गिरावट, कृषि व भूमि की उत्पादकता, वर्षा जल के उपयोग की कम क्षमता, चारे की अत्यधिक कमी, पशुधन से अत्यंत कम उत्पादन, जल उपयोग की क्षमता में कम निवेश, सुनिश्चित और लाभकारी व्यावसायिक अवसरों की कमी इत्यादि गंभीर समस्याओं से ग्रस्त राज्य के गरीब ग्रामीणों के लिए वाटरशेड की योजनाएं उपयुक्त हैं।

इनके माध्यम से वर्षा सिंचित क्षेत्रों में सतत आधार पर आय, उत्पादकता को बढ़ाने तथा कृषि प्रणालियों को छोटी-छोटी जल संरक्षण के लिए निर्मित संरचनाओं के माध्यम से सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराने एवं गरीबों के लिए आय के अन्य साधन जुटाने का प्रयास किये जा रहे हैं।

( वाटरशेड प्रबंधन के अन्तर्गत अवक्रमित भूमि, वर्षा-सिंचित कृषियोग्य भूमि को विकसित करने को उच्च प्राथमिकता दी गई है। )

महत्वपूर्ण तथ्य

  • वर्ष 2015-16 से एकीकृत जलग्रहण प्रबंधन परियोजनाएं (IWMP) प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना जलग्रहण क्षेत्र विकास के नाम से संचालित है।
  • IWMP की एक परियोजना (मिनी वाटरशेड) का उपचार योग्य क्षेत्रफल लगभग 5000 हेक्टेयर के आसपास होता है।
  • एकीकृत जल संग्रहण प्रबंधन कार्यक्रम की माइक्रोवाटरशेड इकाई का क्षेत्रफल (लगभग) 500 हेक्टेयर होता है।
  • भारत सरकार, भूमि संसाधन विभाग द्वारा सामान्य जिलों में ₹12,000 प्रति हेक्टेयर और IAP जिलों में ₹15,000 प्रति हेक्टेयर की दर से परियोजनाओं की लागत निर्धारित की गई है।
  • एकीकृत जल ग्रहण प्रबंधन कार्यक्रम कोष से प्राप्त होने वाले आवंटन का 90% 15. केन्द्र सरकार एवं 10% राज्य सरकार द्वारा वहन किया जाता है।
  • जलग्रहण समिति का गठन ग्राम सभा करती है। ग्राम पंचायत द्वारा वाटरशेड समिति के अध्यक्ष की नियुक्ति नहीं की जाती है। यह वाटरशेड समिति की विशेषता है।
  • परियोजनाओं की पूर्णता अवधि 4 से 7 वर्ष तक होती है। परियोजनाओं के विभिन्न गतिविधियों का क्रियान्वयन निम्नानुसार 3 चरणों में पूरा करना होता है

प्रारंभिक चरण–>1 से 2 वर्ष
वाटरशेड कार्य चरण –>2 से 3 वर्ष
समेकन और निवर्तन चरण–>1 से 2 वर्ष

  • जलग्रहण परियोजनाओं के लिए भारत सरकार द्वारा जारी समान मार्गदर्शी सिद्धांत वर्ष 2008 (यथा संशोधित 2011) के आधार पर वर्ष 2009-10 में समेकित जलग्रहण प्रबंधन कार्यक्रम (IWMP) प्रारंभ की गई। राज्य में IWMP अंतर्गत वर्ष 2009-10 से 2014-15 तक कुल 263 परियोजनाओं की स्वीकृति प्राप्त की गई। इन परियोजनाओं की लागत रू. 1498.04 करोड़ एवं उपचार क्षेत्रफल 11.97 लाख हेक्टेयर है।

‘नीरांचल’ राष्ट्रीय वाटरशेड परियोजना

बढ़ती जनसंख्या व घटते जल संसाधनों को देखते हुए जल संरक्षण अत्यंत आवश्यक है। इसके दृष्टिगत वर्ष 2009-10 में एकीकृत वाटरशेड प्रबंधन कार्यक्रम प्रारंभ किया गया। केंद्र सरकार ने जल के उचित उपयोग एवं संरक्षण के लिए 8 फरवरी 2016 से राष्ट्रीय वाटरशेड प्रबंधन परियोजना ‘नीरांचल’ का शुभारंभ किया है।

  • अक्टूबर, 2015 में मंत्रिमंडलीय समिति ने विश्व बैंक से सहायता प्राप्त ‘नीरांचल’ परियोजना को अनुमोदित किया।
  • 2016 में भारत सरकार व विश्व बैंक ने राष्ट्रीय वाटरशेड प्रबंधन परियोजना ‘नीरांचल’ के लिए एक ऋण समझौते पर हस्ताक्षर किए।
  • 8 फरवरी 2016 से राष्ट्रीय वाटरशेड प्रबंधन परियोजना ‘नीरांचल’ का शुभारंभ किया है।
  • परियोजना की अवधि 1 अप्रैल 2016 से 31 मार्च 2022 तक 6 वर्षों की होगी।
  • विश्व बैंक भारत को 178.50 मिलियन अमेरिकी डॉलर का ऋण प्रदान करेगा। परियोजना की संपूर्ण लागत 2142.30 करोड़ रूपये है जिसमें भारत सरकार 50% वहन करेगी जबकि शेष विश्व बैंक से ऋण द्वारा पूर्ति की जाएगी।
  • नीरांचल राष्ट्रीय वाटरशेड परियोजना के माध्यम से वर्षा आधारित ग्रामीण क्षेत्रों में जल प्रबंधन किया जाएगा।
  • नीरांचल परियोजना के माध्यम से प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के प्रभावी कार्यान्वयन को भी सहायता मिलेगी।
  • विश्व बैंक द्वारा परियोजना को प्रदत्त ऋण प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना की आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, छत्तीसगढ़, गुजरात, झारखंड, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा व राजस्थान के चुने हुए क्षेत्रों में वाटरशेड गतिविधियों में सहायता करेगा।
  • नीरांचल परियोजना में छत्तीसगढ़ का कांकेर एवं जशपुर जिला शामिल है।

विविध

  • समुदाय विकास कार्यक्रम का उद्घाटन 2 अक्तूबर, 1952 को किया था।
  • यह सुनिश्चित करने के लिए कि आर्थिक सुधार का लाभ समाज के सभी क्षेत्रों को प्राप्त हो हेतु पांच सामाजिक और आर्थिक बुनियादी ढांचे चिन्हित किये गए, ये हैं- पेयजल, आवास, स्वास्थ्य, शिक्षा और सड़कें। इन क्षेत्रों में सरकार ने प्रधानमंत्री ग्रामोदय योजना (PMGY) योजना शुरू की थी। ग्रामीण विकास मंत्रालय को पीने के पानी, आवास, ग्रामीण सड़क की जिम्मेदारी सौंपी गई थी।

ध्यान दे :

इस Cg Vyapam ADEO Notes के लिए आपको इस आर्टिकल के लिंक को सम्हाल के रखना होगा , और इस पेज पर बार बार आकर देखना होगा की जब भी इसमें नए chapter को डालेंगे । हर चैप्टर के आगे उस पथ चैप्टर का लिंक आपको मिल जायेगा । Cg Vyapam ADEO Notes | Cg vyapam ADEO Book pdf Download

आजीविका

1.अर्थव्यस्था में कृषि की भूमिकाक्लिक करे
2.हरित क्रांतिक्लिक करे
3.कृषि में यंत्रीकरणक्लिक करे
4.कृषि सम्बन्धी महत्वपूर्ण जानकारियाक्लिक करे
5.कृषि सम्बंधित महत्वपूर्ण योजनाएक्लिक करे
6.राज्य के जैविक ब्रांडक्लिक करे
7.शवेत क्रांतिक्लिक करे
8.राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशनक्लिक करे
9.दीनदयाल उपाध्याय राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन बिहानक्लिक करे
10.दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौसल योजनाक्लिक करे
11.आजीविका एवं ग्रामोद्योगक्लिक करे
12.ग्रामोद्योग विकास के लिए छत्तीसगढ़ शासन के प्रयत्नक्लिक करे
13.संस्थागत विकास- Cg Vyapam ADEO Notes | Cg vyapam ADEO Book pdf Downloadक्लिक करे
15.आजीविका हेतु परियोजना प्रबंध सहकारिता एवं बैंकक्लिक करे
16.राज्य में सहकारिताक्लिक करे
17.सहकारी विपरणक्लिक करे
18.भारत में बैंकिंगक्लिक करे
19.सहकारी बैंको की संरचनाक्लिक करे
20.बाजारक्लिक करे
21.पशु धन उत्पाद तथा प्रबंधक्लिक करे
22.छत्तीसगढ़ में पशु पालनक्लिक करे
23.पशु आहारक्लिक करे
24.पशुओ में रोग-Cg Vyapam ADEO Notes | Cg vyapam ADEO Book pdf Downloadक्लिक करे
25.मतस्य पालनक्लिक करे

 

ग्रामीण विकास की फ्लैगशिप योजनाओ की जानकारी

1.महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार योजनाक्लिक करे
2.महात्मा गाँधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम की विशेषताएंक्लिक करे
3.सुराजी गांव योजनाक्लिक करे
4.स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजनाक्लिक करे
5.इंदिरा आवास योजना-Cg Vyapam ADEO Notes | Cg vyapam ADEO Book pdf Downloadक्लिक करे
6.प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण)क्लिक करे
7.प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजनाक्लिक करे
8.मुख्यमंत्री ग्राम सड़क एवं विकास योजनाक्लिक करे
9.मुख्यमंत्री ग्राम गौरव पथ योजनाक्लिक करे
10.श्यामा प्रसाद मुखर्जी रूर्बन मिशनक्लिक करे
11.अटल खेतिहर मजदूर बीमा योजनाक्लिक करे
12.आम  आदमी बिमा योजनाक्लिक करे
12.स्वच्छ भारत अभियान (ग्रामीण)क्लिक करे
13.सांसद आदर्श ग्राम योजनाक्लिक करे
14.विधायक आदर्श ग्राम योजनाक्लिक करे
17.पंचायत एवं समाज कल्याण विभाग की योजनाएक्लिक करे
19.निशक्त जनो के लिए योजनाएक्लिक करे
20..सामाजिक अंकेक्षण-Cg Vyapam ADEO Notes | Cg vyapam ADEO Book pdf Downloadक्लिक करे
21.ग्रामीण विकास योजनाए एवं बैंकक्लिक करे
22.सूचना का अधिकार अधिनियम 2005क्लिक करे
21.जलग्रहण प्रबंधन : उद्देश्य एवं योजनाएक्लिक करे
22.छत्तीसगढ़ में जलग्रहण प्रबंधनक्लिक करे
23.नीरांचल राष्ट्रीय वाटरशेड परियोजनाक्लिक करे

 

पंचायतरी राज व्यवस्था 

1.पंचायती राज व्यवस्थाक्लिक करे
2.73 वाँ संविधान संशोधन अधिनियम 1992 : सार-संक्षेपक्लिक करे
 3.73 वाँ संविधान संशोधन के प्रावधानक्लिक करे
4.छत्तीसगढ़ पंचायत राज अधिनियमक्लिक करे
5.छत्तीसगढ़ में पंचायती राज व्यवस्था से सम्बंधित प्रश्नक्लिक करे
6.ग्राम सभा से सम्बंधित प्रश्नक्लिक करे
6.अनुसूचित क्षेत्रों में पंचायतों के लिए विशिष्ट उपबंध  से सम्बंधित प्रश्नक्लिक करे
7.पंचायत की स्थापना से सम्बंधित प्रश्न -Cg Vyapam ADEO Notes | Cg vyapam ADEO Book pdf Downloadक्लिक करे
8.पंचायतों के कामकाज -संचालन तथा सम्मिलन की प्रक्रिया से सम्बंधित प्रश्नक्लिक करे
10.ग्राम पंचायत के कार्य से सम्बंधित प्रश्नक्लिक करे
11.पंचायतों की स्थापना, बजट तथा लेखा से सम्बंधित प्रश्नक्लिक करे
12.कराधान और दावों की वसूली से सम्बंधित प्रश्नक्लिक करे
13.पंचायतो पर निर्वाचन का संचालन नियंत्रण एवं उपविधियाँ से सम्बंधित प्रश्नक्लिक करे
16.शास्तियाँ-Cg Vyapam ADEO Notes | Cg vyapam ADEO Book pdf Downloadक्लिक करे
17.14 वा वित्त आयोग से सम्बंधित प्रश्नक्लिक करे
18.15 वाँ वित्त आयोग क्या थाक्लिक करे

 

छत्तीसगढ़ सामान्य ज्ञान  

1.छत्तीसगढ़ नामकरणक्लिक करे
2.छत्तीसगढ़ के 36 गढ़क्लिक करे
3.छत्तीसगढ़ राज्य का गठनक्लिक करे
4.छत्तीसगढ़ की भगौलिक स्थिति , क्षेत्र एवं विस्तारक्लिक करे
5.छत्तीसगढ़ का विधायिकाक्लिक करे
6.छत्तीसगढ़  में अब तक के राज्यपाल एवं मुख्यमंत्रीक्लिक करे
7.छत्तीसगढ़ की न्यायपालिकाक्लिक करे
8.छत्तीसगढ़ के राज्य के प्रतिकक्लिक करे
9.छत्तीसगढ़ के जिलों की सूचिक्लिक करे
10.छत्तीसगढ़ का भूगोलक्लिक करे
11.छत्तीसगढ़ की मिट्टियाक्लिक करे
12.छत्तीसगढ़ की जलवायुक्लिक करे
13.छत्तीसगढ़ का अपवाह तंत्रक्लिक करे
14.छत्तीसगढ़ की परियोजनाएंक्लिक करे
15.छत्तीसगढ़ के जलप्रपातक्लिक करे
16.छत्तीसगढ़ में कृषि सम्बंधित जानकारियाक्लिक करे
17.छत्तीसगढ़ में खनिजक्लिक करे
18.छत्तीसगढ़ में ऊर्जा संसाधनक्लिक करे
19.छत्तीसगढ़ के उद्योगक्लिक करे
20.छत्तीसगढ़ के औधोगिक विकास पार्कक्लिक करे
21.छत्तीसगढ़ के परिवहनक्लिक करे
22.छत्तीसगढ़ की जनगणनाक्लिक करे
23.छत्तीसगढ़ की जनजातियाँक्लिक करे
24.छत्तीसगढ़ के किले महल एवं पर्यटन स्थलक्लिक करे
25.छत्तीसगढ़ के तीज त्यौहारक्लिक करे
26.छत्तीसगढ़ के प्रमुख मेले एवं तिथिक्लिक करे
27.छत्तीसगढ़ के लोक महोत्सवक्लिक करे
28.छत्तीसगढ़ के प्रमुख व्यंजनक्लिक करे
29.छत्तीसगढ़ का लोक नृत्यक्लिक करे 
30.छत्तीसगढ़ का लोक नाट्यक्लिक करे 
31.छत्तीसगढ़ का लोकगीतक्लिक करे
32.छत्तीसगढ़ के लोक खेलक्लिक करे
33.छत्तीसगढ़ का चित्रकलाक्लीक करे 
31.छत्तीसगढ़ के हस्तशिल्पक्लिक करे
32.छत्तीसगढ़ के आभूषणक्लिक करे
33.छत्तीसगढ़ के प्रमुख चित्रकार एवं शिल्पकारक्लिक करे
34.छत्तीसगढ़ का प्राचीन इतिहासक्लिक करे
35.छत्तीसगढ़ का मध्यकालीन इतिहासक्लिक करे
36.छत्तीसगढ़ का आधुनिक इतिहासक्लिक करे
39.छत्तीसगढ़ के आदिवासी विद्रोहक्लिक करे
40.छत्तीसगढ़ के स्वतंत्रता आंदोलनक्लिक करे
41.छत्तीसगढ़ के असहयोग आंदोलनक्लिक करे
42.छत्तीसगढ़ में  सविनय अवज्ञा आंदोलनक्लिक करे
43.छत्तीसगढ़ में शिक्षाक्लिक करे
44.छत्तीसगढ़ में प्रथमक्लिक करे
Share your love
Rajveer Singh
Rajveer Singh

Hello my subscribers my name is Rajveer Singh and I am 30year old and yes I am a student, and I have completed the Bachlore in arts, as well as Masters in arts and yes I am a currently a Internet blogger and a techminded boy and preparing for PSC in chhattisgarh ,India. I am the man who want to spread the knowledge of whole chhattisgarh to all the Chhattisgarh people.

Articles: 1117

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *