छत्तीसगढ़ का सिचाई परियोजना | Chhattisgarh ka Sichai Pariyojna

5/5 - (1vote)

विद्यार्थीओ आज हम आपको  छत्तीसगढ़ का सिचाई परियोजना | Chhattisgarh ka Sichai Pariyojna छत्तीसगढ़ की नदी परियोजना Chhattisgarh ki nadi pariyojna के बारे में आपको बताएँगे ।

छत्तीसगढ़ का सिचाई परियोजना | Chhattisgarh ka Sichai Pariyojna

सिचाई परियोजना 

क्रमांक आकर निर्मित निर्माणाधीन 
1.वृहद् परियोजना84
2.माध्यम परियोजना371
3.लघु परियोजना2477333
4.एनिकेट / स्टम्पड806161

वर्तमान में प्रदेश की सिचाई का प्रतिशत 38.65% हो गया है ।

छत्तीसगढ़ की वृहत सिचाई परियोजना 

  1. महानदी परियोजना समूह
  2. मिनीमाता हसदेव बांगो परियोजना (1976)
  3. सिकासार परियोजना (1972-1995)
  4. वीर नारायण सिंह / कोंडार परियोजना(1976-1995)
  5. तांदुला परियोजना
  6. खारंग /संजय गाँधी परियोजना , खुटाघाट (1920-31)
  7. मनियारी परियोजना या खुड़िया / राजीव गाँधी परियोजना (1924-1930)
  8. जोक व्यायपरवर्तन परियोजना (1975-1995)

मिनीमाता हसदेव बांगो परियोजना (1967)

स्थान : बांगो जी कोरबा

नदी : हसदेव नदी

नाम : मिनीमाता परियोजना

लाभान्वित जिले : कोरबा , जांजगीर चापा , रायगढ़

जलापूर्ति : NTPC कोरबा , बालको , SECL , कोरबा नगर निगम

जलविधुत : मचाडोली में 120 में वा का पनबिजली संयंत्र

विशेस्ता : छत्तीसगढ़ का सबसे ऊँचा बांध , राज्य की प्रथम बहुदेशीय परियोजना

महत्वपूर्ण सिचाई परियोजना 

बांध नदी जिला निर्माण 
रुद्री पिकअप वियरमहानदीधमतरी1915
मरुमसिल्लीसिलयारीधमतरी1923
दुधवा जलाशयमहानदीकांकेर1962-63
रविशंकर जलाशय , गंगरेलमहानदीधमतरी1979
संजय गाँधी परियोजना , खुटाघाटखारंगबिलासपुर1931
मनियारी बांध , खुड़ियामनियारीमुंगेली1930
बोधघाट परियोजनाइंद्रावतीबारसूर
अरपा भैंसाझारअरपाबिलासपुर
सूखा नाला बैराजसुखनालाराजनांदगाव
घुमरिया नाला बैराजघुमरिया नालाराजनांदगाव
कर्रा  नाला बैराजकर्रा नालाकबीरधाम
दिलीप सिंह जूदेव परियोजनाकेलो नदीरायगढ़
पडित लखनलाल मिश्रा जलाशयमहानदीपेंड्रावन

 

क्रमांक परियोजनाएं लाभान्वित जिले
1.महानदीरायपुर बिलासपुर
2.पैरीरायपुर
3.कोदररायपुर
4.जोंकरायपुर
5.रविशंकर सागररायपुर
6.गुंटूररायपुर
7.दुधवा बांधरायपुर
8.हसदोबिलासपुर
9.मनियारीबिलासपुर
10.मिनीमाताबिलासपुर
11.कन्हारसरगुजा
12.तांदुलादुर्ग
13.अरपाबिलासपुर

 

क्रमांक परियोजना का नाम नदी का नाम जिला 
1.गोंदलीजुहारबालोद
2.सरोदासकरीकवर्धा
3.सुरहीराजनांदगाव
4.घुघवारायपुर
5.चुहियापतसरगुजा
6.गोबरीकोरिया
7.कींकरीरायग़ढ़
8.पुटकारायगढ़
9.घुनघुट्टासरगुजा
10.गेजकोरिया
11.कोसारटेडाबस्तर
12.घोंघाबिलासपुर
13.रामावतारबिलासपुर
14.महानसूरजपुर
15.बेहारखारकवर्धा
16.मटियामोतीराजनांदगाव
17.रुसे धाराराजनांदगाव
18.पिपरिया नालाराजनांदगाव
19.झुमकाकोरिया
20.म्यानकांकेर
21.रोगदाजजगरी चमप
22.श्यामबलरामपुर
23.केदाररायगढ़
24.कुंवरपुरसगुजा
25.बांकीसरगुजा
26.खम्हाररायगढ़
27.किंकारीरायगढ़
28.धुर्देवबिलासपुर
29.आनंद सागरबिलासपुर
30.बरनईसरगुजा
31.मरोड़ादुर्ग

परीक्षाओं में पूछे गए महत्वपूर्ण तथ्य : नदी, सिंचाई

  • नया रायपुर में जलापूर्ति हेतु महानदी में टीला नामक स्थान पर एनीकट बनाया गया है.
  • कोरबा जिले के कटघोरा के निकट बांगो ग्राम में हसदेव नदी पर राज्य की सबसे ऊँची मिनीमाता बहुउद्देशीय परियोजना निर्मित है।
  • महानदी अपवाह तंत्र छत्तीसगढ़ राज्य के 56.15% जल का संग्रहण करता है।
  • वर्ष 2018-19 में कुल सिंचित क्षेत्र में नहरों का योगदान 36% था।
  • नदी एवं जलप्रपात हसदो अमृतधारा, बनास-रामदा, इन्द्रावती-चित्रकोट, कांगेर-तीरथगढ़
  • छत्तीसगढ़ में नहरों तथा नलकूप को सिंचाई का सुनिश्चित स्रोत माना जाता है।
  • कोरबा जिले में हसदो नदी पर निर्मित बांध छत्तीसगढ़ की प्रथम महिला सांसद मिनीमाता के नाम पर है।
  • इंद्रावती नदी मुंगेर की पहाड़ियों (कालाहांडी, उड़ीसा) से निकलती है तथा बीजापुर जिले के भद्रकाली में गोदावरी से मिल जाती है।
  • बस्तर की जीवन रेखा इंद्रावती, गोदावरी की सहायक तथा दंडकारण्य पठार की प्रमुख नदी है। यह बस्तर संभाग को दो भागों में बांटती है।
  • अभियान लक्ष्य भागीरथी के अंतर्गत कुल 106 परियोजनाएं पूर्ण करने के लिए चिन्हित की गई हैं।
  • शिवनाथ की सहायक मनियारी नदी का उद्गम लोरमी पठार के सिंहावल क्षेत्र से हुआ है। यह मुंगेली, बिलासपुर जिले से बहते हुए तालागांव के निकट शिवनाथ नदी में मिल जाती है।
  • हसदेव का उद्गम सोनहत क्षेत्र के कैपूर की पहाड़ियों से है। यह नदी कोरिया, कोरबा एवं जांजगीर-चांपा जिला से बहती हुई शिवरीनारायण के समीप ग्राम केरा सिलादेही के पास महानदी में मिल जाती है।
  • महानदी पर निर्मित गंगरेल बांध का अन्य नाम रविशंकर जलाशय भी है। यह महानदी परियोजना समूह का सबसे बड़ा बांध है। यहां 10 मेगावाट क्षमता की जल विद्युत उत्पादन की एक इकाई भी स्थापित की गई है।
  • महानदी पर निर्मित गंगरेल बांध का अन्य नाम रविशंकर जलाशय भी है। यह महानदी परियोजना समूह का सबसे बड़ा बांध है।
  • यहां 10 मेगावाट क्षमता की जल विद्युत उत्पादन की एक इकाई भी स्थापित की गई है।
  • मिनीमाता हसदेव बांगो बहुउद्देशीय सिंचाई परियोजना वर्ष 2011 में पूर्ण की गई थी।
  • इंद्रावती नदी गोदावरी की एक सहायक नदी है जबकि शिवनाथ, जॉक और पैरी महानदी की सहायक नदियां हैं।
  • मुरूमसिल्ली जलाशय का निर्माण 1923 में महानदी की सहायक सिलियारी नदी पर धमतरी जिले में किया गया था।
  • कलमा बैराज जांजगीर-चांपा जिले में महानदी पर निर्मित किया गया है।
  • रिहंद सोन नदी की सहायक है। इसका उद्गम अंबिकापुर तहसील के मतिरिंगा पहाड़ी से हुआ है।
  • महानदी पर धमतरी जिले के गंगरेल नामक ग्राम में रविशंकर सागर परियोजना स्थित है।
  • 2000 में शासकीय स्त्रोतों से 13.28 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई क्षमता निर्मित थी, दिसंबर 2018 तक कुल 21.02 लाख हेक्टेयर सिंचाई क्षमता सृजित की जा चुकी है। इस प्रकार राज्य निर्माण से 2018 तक 7.74 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई क्षमता का निर्माण किया गया है।
  • रविशंकर सागर जलाशय धमतरी जिले के गंगरेल नामक स्थान पर महानदी पर निर्मित है।
  • अरपा का उद्गम खोडरी-खोंगसरा (बिलासपुर-पेंड्रा पठार) से हुआ है तथा यह ग्राम मानिकचौरी के समीप शिवनाथ से मिल जाती है।
  • इस राज्य में गोदावरी नदी की प्रमुख सहायक नदी इंद्रावती है जबकि हसदो नदी महानदी अपवाह तंत्र के अंतर्गत शामिल हैं।
  • मध्य छत्तीसगढ़ में विस्तृत महानदी का मैदान का निर्माण महानदी तथा उसकी सहायक नदियों द्वारा किया गया है। महानदी के मैदान में प्रमुख रूप से धान की फसल ली जाती है।
  • रायपुर खारून नदीतट पर, बिलासपुर अरपा नदीतट पर, दुर्ग शिवनाथ नदीतट तथा जगदलपुर इंद्रावती नदी के तट पर बसा है। रायगढ़ नगर केलो नदी के किनारे बसा हुआ है जबकि सिरपुर, शिवरीनारायण और राजिम महानदी के तट पर बसे हुए नगर हैं।
  • खुड़िया बांध (राजीव गांधी परियोजना) मनियारी नदी पर, खूंटाघाट बांध (संजय गांधी परियोजना) खारंग नदी पर तथा मिनीमाता बांगो बहुद्देशीय परियोजना हसदो नदी पर स्थित है। बोधघाट परियोजना इंद्रावती नदी पर दंतेवाड़ा जिले में प्रस्तावित है।
  • इंद्रावती नदी बस्तर कांकेर क्षेत्र में प्रवाहित होती है जबकि शिवनाथ, हसदो और अरपा छत्तीसगढ़ के मैदानी क्षेत्र में प्रवाहित होती हैं।
  • खारुन रायपुर में, अरपा बिलासपुर में और हसदो कोरबा तथा चांपा में प्रवाहित होती है। शबरी नदी सुकमा जिले में प्रवाहित होती है।
  • रिहंद नदी सरगुजा तथा सूरजपुर जिलों में, इंद्रावती बस्तर संभाग में, हसदो और शिवनाथ नदियां छत्तीसगढ़ के मैदानी क्षेत्र में बहती हैं।
  • इंद्रावती राष्ट्रीय उद्यान बीजापुर जिले में स्थित है।
  • प्रदेश में प्रवाहित होने वाली सबसे लंबी नदी शिवनाथ है।
  • 1978 में महानदी पर धमतरी जिले के गंगरेल ग्राम के निकट रविशंकर जलाशय का निर्माण किया गया था।
  • यह महानदी परियोजना का सबसे बड़ा बांध है, यहां 10 मेगावाट क्षमता की जल विद्युत उत्पादन इकाई भी स्थापित है।
  • शिवनाथ छत्तीसगढ़ में बहने वाली सबसे लंबी (290 किमी.) नदी है।
  • खारून शिवनाथ की एक सहायक नदी है। कोटरी इंद्रावती की सहायक नदी है तथा हसदो और पैरी महानदी की सहायक नदियां हैं।
  • रविशंकर जलाशय या गंगरेल जलाशय महानदी पर धमतरी जिले के गंगरेल नामक ग्राम में अवस्थित है।
  • कोरबा जिला हसदो नदी के तट पर स्थित है।
  • महानदी छत्तीसगढ़ की जीवन रेखा के नाम से जानी जाती है।
  • अमनेर, मस्का और पिपरिया का संगम राजनांदगांव जिले के खैरागढ़ में है।
  • महानदी परियोजना छत्तीसगढ़ की बड़ी सिंचाई परियोजना है। इस परियोजना के पूर…
  • मिनीमाता बांगो जलाशय नदी पर कोरबा जिले में निर्मित किया गया है। यह राज्य को प्रथम बहुउद्देशीय परियोजना है।
  • महानदी पर उड़ीसा में हीराकुंड बांध निर्मित है, जबकि मिनीमाता बांगो बांध कोरबा जिले में हसदो नदी पर स्थित है।

Leave a Comment