तारापुर विद्रोह छत्तीसगढ़ | Tarapur Vidroh Chhattisgarh

तारापुर विद्रोह छत्तीसगढ़ Tarapur Vidroh Chhattisgarh

  1. तारापुर विद्रोह या फिर कहे की तारापुर  संघर्ष 1842 से लेकर 1854 तक तारापुर, बस्तर  में हुआ था ।
  2. इसके शासक  भूपाल देव राजपूत  जी थे ।

  3. इस विद्रोह के नेतृत्वकर्ता भी दलगंजन सिंह राजपूत जी ही थे । दलगंजन सिंह राजपूत जी तारापुर  के जमींदार भी थे ।
  4. यहाँ दलगंजन सिंह कोई और नहीं भूपाल देव राजपूत के भाई ही थे ।
  5. इन सभी लोगो और भूपाल  देव , दलगंजन सिंह  के विरोध में था या कहे जो विपक्षी था जिससे इन सभी की लड़ाई था वह था अंग्रेज अधिकारी ।
  6. इस विद्रोह का मुख्य कारण था की यहाँ के लोग का की तारापुर में अत्यधिक टकोली( कर ) Tax का बढ़ा दिया जाना जिससे यहाँ के लोग बहुत ही परेशान हो गए थे ।
  7. एक और मुख्य कारन था की वह पर दीवान जगबंधु और सैनिक अब्दुल शेख का आतंक था जिससे लोग और भी परेशान थे ।
  8. इस विद्रोह का शांत करने की जिम्मेदारी मेजर विल्लियम्स को दिया गया था । मेजर विल्लियम्स ईसाई धर्मान्तरण करने के लिए भी जाना जाता था इससे वह के लोग और भी परेशान हो गए ।
  9. यहाँ के लोगो को जगबंधु का सहयोगी जगन्नाथ बहिदार ने ही सबको विद्रोह के लिए भड़काया ।
  10. विद्रोह से परेशान होकर अंग्रेजो को परिणाम स्वरुप बढे हुए टकोली ( कर ) को वापस से हटाना ही पड़ा ।

    इन्हे जरूर पढ़े :-

👉 परलकोट विद्रोह छत्तीसगढ़

👉  भोपालपट्नम विद्रोह छत्तीसगढ़

👉  भूमकाल विद्रोह छत्तीसगढ़

👉  कोई विद्रोह छत्तीसगढ़

👉 हल्बा विद्रोह छत्तीसगढ़

👉  मुरिया विद्रोह में आदिवासियों ने कैसे अंग्रेजो को धूल चटाई ?

👉  लिंगागिरी विद्रोह के मंगल पांडेय से मिलिए !

👉  मेरिया माड़िया विद्रोह में दंतेश्वरी मंदिर पर अंग्रेजो ने कैसे हमला किया ?

 

Leave a Reply