मुरिया मुड़िया विद्रोह छत्तीसगढ़ | Muriya Vidroh | Mudiya Vidroh Chhattisgarh

मुरिया मुड़िया विद्रोह छत्तीसगढ़ | Muriya Vidroh | Mudiya Vidroh Chhattisgarh

  1. मुरिया/माड़िया विदोर्ह या फिर कहे की मुरिया संघर्ष 1876  को बस्तर ,बीजापुर में हुआ था ।
  2. इसके शासक भैरम देव राजपूत   जी थे ।
  3. इस विद्रोह के नेतृत्वकर्ता  झारा सिरहा  जी ही थे ।
  4. इन सभी लोगो और झारा सिरहा  के विरोध में था या कहे जो विपक्षी था जिससे इन सभी की लड़ाई था वह था अंग्रेज ।
  5. इस विद्रोह का मुख्य उद्देश्य यह था की यहाँ के लोग दीवान गोपीनाथ कपरदार और मुंशी आदित्य प्रसाद को हटाना चाहते थे । क्योकि अंग्रेज इनकी मदद से पुरे बस्तर में फुट डालो और राज करो की निति से सभी को आपस में लाडवा रहे थे ।
  6. इस विद्रोह में यहाँ के लोगो का प्रतिक चिन्ह था – आम के वृक्ष की टहनी थी ।
  7. इस विद्रोह के दमनकर्ता जॉर्ज मैके था , इसकी जिम्मेद्दारी थी इस विद्रोह को ख़त्म करना लेकिन वह ऐसा नहीं कर सका ।
  8. अंततः 2 मार्च 1876 को बस्तर में काला दिवस मनाया गया था ।
  9. जिससे परेशान होकर आखिरकार जॉर्ज मैके ने 8 मार्च 1876 को बस्तर में मुरिया दरबार कर सबकी शर्ते मन ली । 

इन्हे जरूर पढ़े :-

👉 लिंगागिरी विद्रोह के मंगल पांडेय से मिलिए !

👉 मेरिया माड़िया विद्रोह में दंतेश्वरी मंदिर पर अंग्रेजो ने कैसे हमला किया ?

👉 तारापुर विद्रोह छत्तीसगढ़ 

👉 परलकोट विद्रोह छत्तीसगढ़

👉 भोपालपट्नम विद्रोह छत्तीसगढ़

👉 भूमकाल विद्रोह छत्तीसगढ़

👉 कोई विद्रोह छत्तीसगढ़

👉 हल्बा विद्रोह छत्तीसगढ़

Leave a Reply