छत्तीसगढ़ जनजाति विवाह गीत | Chhattisgarh Janjati Vivah Geet

Rate this post

जनजातीय विवाह 

  • जनजातीय गोत्र बहिर्विवाह  का पालन करते है ।
  • एकल विवाह ( मोनोगेमि ) बहुविवाह ( पोलोगेमी ) दोनों मान्य है ।
  • सह गोत्री विवाह नहीं किया जाता है ।
क्रविवाह जनजाति महत्वा 
1.पयसोतूर/ अपहरणगोंडलड़कियों  का अपहरण करके विवाह किया जाता है ।
2.लमसेन सेवा चारधियागोंडलड़का  पूरा  उम्र  लड़की के घर में गुजारता  है ।
3.पठौनी विवाहगोंडलड़की बारात  लेकर  लड़का के घर जाति है ।
4.दूध लौटावा विवाहगोंडममेरे फुफेरे  के बच्चो  का विवाह होता है ।
5.भगेली विवाहमाड़ियालड़की प्रेमी के घर रात में आकर रहने लगती   है ।
6.तीर विवाहबिंझवारलड़की का विवाह तीर के साथ किया जाता है ।
7.गन्धर्वा विवाह/ हरिबोलपरजा/ धुरवापरजा धुरवा का यहाँ प्रेम विवाह है ।
8.हठ विवाहसभी  जनजातिसभी जनजाति लड़की  प्रेमी के घर में घुस जाति है ।
9.पैठुल विवाहबैगाएक प्रकार से प्रेम  विवाह है ।
10.ढुकु विवाहकोरवाएक प्रकार से प्रेम  विवाह है ।
11.क्रय विवाहसभी  जनजातिलड़के  को उपहार  देकर  विवाह होता है ।
12.उर/ ऊना विवाहसभी  जनजातिविधवा  विवाह होता है ।
13.पाटो विवाहसभी  जनजातिपुनर्विवाह होता है ।
14.गुरावत/विनिमयसभी  जनजातिभाई बहनो  के बीच विनिमय होता है ।
15.पोता विवाहकोरकूअपने ही जाति में विवाह करना

जनजाति गीत 

क्रगीत जानकारी
1.छेरता गीत बस्तर अंचल छेर-छेरा (पौष पूर्णिमा) पर्व पर लड़को द्वारा किया जाता है  ।
2.तारा गीत बस्तर अंचल छेर-छेरा (पौष पूर्णिमा) पर्व पर लड़कियों  द्वारा किया जाता है  ।
3.रीलो गीत मुड़िया जनजाति द्वारा विवाह के अवसर पर गया जाता है ।
4.कोटनी गीत मुड़िया जनजाति को छोड़कर अन्य जनजाति द्वारा विवाह के अवसर पर गाया जाता है ।
5.करमा गीत कर्म देव  को  प्रसन्न  व  नै  फसल की ख़ुशी  में जनजाति द्वारा गया जाता है .
6.चैत्य परब गीत बस्तर अंचल में चैत्र माह में गाया जाने वाला श्रीनगर प्रधान गीत है
7.लेजा  गीत हल्बी जनजाति द्वारा किसी भी अवसर में गाया जाता है ।
8.धनकुल/जगार गीत  हल्बी, भतरी, जनजाति द्वारा भादो, तीज  में गाया  जाता है ।  .

यहाँ हल्बी भाषा में होता है ।

9.भैना गीत  यहाँ भैना जनजाति द्वारा तंत्र मंत्र पर आधारित गीत है ।

इन्हे जरूर पढ़े :-

👉 छत्तीसगढ़ की अनुसूचित जनजातियाँ 

👉  नगेसिया जनजाति छत्तीसगढ़ 

👉 छत्तीसगढ़ी भाषा छत्तीसगढ़ी बोली 

👉  छत्तीसगढ़ के आदिवासी विद्रोह 

👉 भादो जार्ता उत्सव छत्तीसगढ़

Leave a Comment