छत्तीसगढ़ में लौह अयस्क कहा कहा पाया जाता है | Chattishgadh Me Lauh Ayaska Kahan Kahan Paya Jata Hai

1/5 - (1vote)

छत्तीसगढ़ में लौह अयस्क कहा कहा पाया जाता है | Chattishgadh Me Lauh Ayaska Kahan Kahan Paya Jata Hai

  1. कुल खनिज राजस्व का 823 करोड़ रुपये लोहा से प्राप्त होता है .
  2. दूसरे नंबर का राजस्व प्रतप्त होता हिअ । ( प्रथम कोयला )
  3. लोहा दक्षिण भाग में मिलता है ।
  4. लोहा धारवाड़ छत्तं में मिलता है ।
  5. छत्तीसगढ़ का लोहा हेमेटाइट प्रकार का है ।
  6. लोहा का उत्पादन 15.77% होता है ।
  7. लोहा का भण्डारण 19.59% है ।
  8. भारत का सबसे बड़ा मशीनीकृत लोहा खदान बैलाडीला , दंतेवाड़ा है ।
  9. लोहा का खनन NMDC  द्वार किया जा रहा है ।
  10. बैलाडीला के लोहा को जापान द्वारा विशाखापत्तनम के बंदरगाह से जापान ले जाया जा रहा है ।
  11. प्रथम खनन संयत्र :- किरंदुल ( 1968 )
  12. द्वितीय खनन संयत्र :- बचेली ( 1980 )
  13. तृतीया खनन संयत्र :- बैलाडीला ( 1988 )
  14. बैलाडीला में 14 डिवीज़न लगा हुआ है । 
भारत में छत्तीसगढ़ में 
क्रमांक भण्डारण उत्पादनक्रमांक भण्डारण उत्पादन 
1.झारखण्डकर्णाटक1.दंतेवाड़ादंतेवाड़ा
2.ओडिशाछत्तीसगढ़2.कांकेरबालोद
3.छत्तीसगढ़ओडिशा3.कवर्धाकांकेर


छत्तीसगढ़ के इन जिलों में सर्वाधिक कोयला पाया जाता है 

  • दंतेवाड़ा :- किरंदुल , बचेली , बैलाडीला 
  • नारायणपुर :- छोटे डोंगरे 
  • कांकेर :- राजघाट , आरी डोंगरी , कॉलमसार , मेटा बदले 
  • राजनांदगाव :- बोरिया टिब्बू 
  • कवर्धा :- एकलमा 
  • बालोद :- दल्ली राजहरा , डौंडी ( डौंडी लोहरा नहीं )

    इन्हे भी जरूर पढ़े :-

👉Coronavirus Live Update Chhattisgarh | Covid-19 Live Cases Chhattisgarh

👉दीवानपटपर गांव कवर्धा छत्तीसगढ़

👉दाऊ दुलार सिंह मंदराजी

👉छत्तीसगढ़ पदमश्री पदमभूषण 

👉छत्तीसगढ़ी कलेवा व्यंजन पकवान भोजन

Leave a Comment