मैत्री बाग भिलाई छत्तीसगढ़ | Maitri Bagh Bhilai Chhattisgarh

मैत्री बाघ भिलाई छत्तीसगढ़ Maitri Bagh Bhilai Chhattisgarh

1.मैत्री बाग भिलाई दुर्ग छत्तीसगढ़ का यह एक चिड़ियाघर है ।  भिलाई इस्पात संयंत्र द्वारा संचालित यह बच्चों का एक मैत्री बाग है , लेकिन यहाँ छोटे बच्चो से लेकर बड़े लोग भी जाते है । 

2. यहां हर दिन दूर-दूर से अनेक लोग घूमने आते हैं , क्योकि इस बाघ के बात ही अलग है और जब आप भी यहाँ आएंगे तो आपको पता चल जायेगा की हम ऐसा को कर रहे है । 

3. यह चिड़ियाघर में विदेशी जानवरों की प्रजातियां अधिक मात्रा में यहां दिखाई देते हैं , और यही चीज इस मैत्री बाघ की खास बात है । 

4. यहां झील है, जिसका पानी कभी नहीं सूखता है , ट्रेन भी है , और घूमने लायक बहुत बड़ा चिड़ियाघर स्थान है जो आपको बहुत ही सुखदायक लगेगा  |

5. चिड़ियाघर में सफेद बाघ  मुख्य आकर्षक है यहां हर साल एक बाघ  का प्रदर्शन आयोजित किया जाता है |

6. यहां आने के बाद नाव की सवारी कर सकते हैं झील में जो की बिलकुल फ्री होता है । 

7. सफेद बाघ चिड़ियाघर का मुख्य आकर्षक केंद्र है यहां लोग इसी  को देखने  सबसे ज्यादा आते हैं |

8. यहां अनेक प्रकार की मूर्तियां अनेक प्रकार के दिखाई पड़ते हैं जिससे बार-बार आने का मन करता है |

9. मैत्री बाग कें कृत्रिम झील में द्वीप पर स्थित म्‍यूजिकल फाउटेंन है |

10. जो एक पानी का ऐसा गतिशील दृश्य उपस्थित करता है |

11. जो संगीत की धुन पर प्रतिक्रिया देता है कि संगीत प्रदर्शन की शैली और तालबद्धता का अर्थ है।

12. जैसे-जैसे संगीत की धुन बदलती है वैसे वैसे हवा में पानी के जेट लहराते है।

13. एक दिन छोड़कर शाम को म्‍यूजिकल फाउटेंन के दो प्रदर्शन आयोजित किए जाते हैं।

मैत्री बाग कैसे पहुचे :-

1.सड़क के द्वारा :-

जिला मुख्यालय से मैत्री बाग लगभग 9 किमी दूर है।

2.ट्रेन द्वारा :-

दुर्ग मुंबई-हावड़ा मुख्य रेलवे लाइन पर स्थित है। दुर्ग रेलवे स्टेशन मुंबई से 1101 किमी, हावड़ा से 867 किमी, नई दिल्ली से 1354 किमी और नागपुर से 275 किमी दूर है।

3.हवाई जहाज से:-

निकटतम हवाई अड्डा रायपुर (54 किलोमीटर) में है जो दिल्ली, मुंबई, नागपुर, कोलकाता, भुवनेश्वर, चेन्नई, रांची और विशाखापत्तनम से जुड़ा हुआ है।

इन्हे जरूर पढ़े :-

👉छत्तीसगढ़ के जलप्रपात

👉हाखिकुड़म जलप्रपात

👉छ:ग कृषि उपज-उत्पादक क्षेत्र

👉खरखरा बांध

👉खारा रिज़र्व वन

Leave a Reply