जो सीएम बन जाता है, वही रहता है-गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू

गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने ढाई-ढाई साल सीएम के मामले में बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा कि एक बार जो सीएम बन जाता है, वहीं रहता है। कवर्धा हिंसा पर कहा- भाजपा और RSS ने बाहर से गुंडे बुलवा कर हिंसा कराई है।

गौरेला-पेंड्रा-मरवाही पहुंचे साहू ने कहा कवर्धा के लोग शांतिप्रिय हैं, वे कभी इस प्रकार की घटना घटित नहीं कर सकते। सीएम के मुद्दे पर साहू का यह पहला स्पष्ट बयान है। पत्रकारों से चर्चा करते हुए मंत्री ने कहा कि रमन सिंह स्पष्ट करें कि कवर्धा में जिन पर मामला दर्ज हुआ है, वह 18 साल से कम उम्र के बच्चे हैं या अधिक। रमन सिंह ने कवर्धा मामले में 70 बच्चों को गिरफ्तार करने का आरोप लगाया था। साहू ने कहा कि FIR में कोई भी कवर्धा का व्यक्ति नहीं है। बल्कि ये बाहर से आए हुए लोग हैं। जिनके बारे में वीडियो फुटेज के आधार पर छानबीन की जा रही है।

गृहमंत्री ने कवर्धा में इंटेलिजेंस फेलियर मानने से इनकार कर दिया। कहा कि जो एक बार मुख्यमंत्री बन जाता है, वही रहता है। हर राज्य की अलग-अलग परिस्थिति होती है, कभी-कभी परिस्थिति के कारण कोई 15 साल भी मुख्यमंत्री रह जाता है तो कई ढाई महीने भी। फिलहाल भूपेश बघेल ही मुख्यमंत्री हैं और वही रहेंगे।

कई कार्यक्रमों में शामिल हुए मंत्री

गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू रविवार को एक दिवसीय दौरे पर गौरेला-पेंड्रा-मरवाही के पेंड्रा पहुंचे हुए थे। यहां वह अलग-अलग कार्यक्रमों में शामिल हुए। साहू ने पेंड्रा में साहू समाज के सम्मेलन और सम्मान समारोह में भी शिरकत किया। वहीं, रेस्ट हाउस गौरेला में पार्टी कार्यकर्ताओं और आमजन से भी मुलाकात की। यहां उन्होंने लोक निर्माण विभाग और पुलिस विभाग के अफसरों की बैठक भी ली। जिसमें नए जिले को लेकर निर्माण कार्य और जिले की अंतरराज्यीय सीमाओं पर विशेष निगरानी बरतने का निर्देश दिए।

ये है कवर्धा का मामला

3 अक्टूबर को वार्ड नंबर 27 के लोहारा नाका चौक इलाके में झंडा लगाने को लेकर विवाद शुरू हुआ था। कुछ युवकों ने अपना झंडा चौराहे पर लगा दिया। इसी बात को लेकर दो गुटों के युवक सड़क पर लाठी-डंडे लेकर उतर आए। एक दूसरे को पीटा। पत्थरबाजी हुई। पुलिस की आंखों के सामने एक युवक को भीड़ पीटती रही। मारपीट में 8 लोग घायल हुए हैं। इनका इलाज कवर्धा के अस्पताल में कराया जा रहा है। इसके बाद सोमवार को शांति समिति की बैठक भी बुलाई गई थी।

93 आरोपी नामजद

इस मामले में पुलिस ने अशांति फैलाने वाले करीब 1000 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज की है। इनमें से 93 आरोपी नामजद हैं। पूरे मामले में अलग-अलग 7 FIR दर्ज हुई है। वीडियो फुटेज और फोटो से आरोपियों की पहचान की जा रही है।

इन बीजेपी नेताओं पर हुआ है मामला दर्ज

राजनांदगांव सांसद संतोष पांडेय, रमन सिंह के बेटे पूर्व सांसद अभिषेक सिंह, पूर्व विधायक मोतीराम चंद्रवंशी, अशोक साहू, प्रदेश मंत्री विजय शर्मा, जिलाध्यक्ष अनिल सिंह, भाजयुमो जिलाध्यक्ष पीयूष ठाकुर, VHP जिला प्रमुख नंदलाल चंद्राकर सहित कैलाश चंद्रवंशी, राजेंद्र चंद्रवंशी, पन्ना चंद्रवंशी, उमंग पांडेय, राहुल चौरसिया, भुनेश्वर चंद्राकर के नाम शामिल हैं।

Leave a Reply