तँय उठथस सुरूज उथे | Tay uththas Surooj Uthe by Vinay Kumar Pathak

तँय उठथस सुरूज उथे | Tay uththas Surooj Uthe by Vinay Kumar Pathak

1

तय उठथस सूरुज उथे, सुसताथस होथे साम रे ।
रात घलो हो जाये, जब लेथस बने अराम रे ।।
जउन पानी ल तँय छूथस, वो गंगाजल हो जाये रे ।
जउन लकड़ी ल तँय  धरथस, तुतारी-हल हो जाथे  रे ।।
जउन बीजा ल तँय छूयस, हो जाथे सुघ्घर पेड़ रे।
जउन रसदा ले रेंगथस, बन जाथे वोहर मेड़ रे।।
जब काज म भिड़ जाथस , बेरा हो जाथे थाम रे ।।

2

दू हाथ बढ़ाये आघू , हो जाथे जम्मो काज रे ।
बूता सुरू हो जाथे , जब ले लेथस अनताज रे।।
जाँगर पेरे तौ भुइयाँ अनपूरना के राज रे।
माटी सोन्ना होही, पछीना चुचवाही आज रे ।
देह जुड़ाही झटकुन, परिही जब जोरहा घाम रे ।। 

3

तोर त्-त्-त्-त् बइला के, बन जाथे गाता छंद रे।
सब खेत होथे राधा, तँय बनथस बेटा नन्द रे ।
तोर खुसी ले खेत मन, झुमर-झुमर लहरावै रे ।
तोर उद्दाह ले गाँवें, म नवा जिनगी आवै रे ।
तोर खेत चारों खुट, हो जाये चारों धाम रे ।।

 

इन्हे भी पढ़े :-

👉राजीव लोचन मंदिर : कुम्भ से भी अनोखा है यहाँ का अर्धकुम्भ !

👉खल्लारी माता का मंदिर : जहा भीमपुत्र घटोच्कच का जन्म हुआ , कौरवो ने पांडवो को मरने के लिए लाछागृह भी यही बनवाया था !

👉देवरानी और जेठानी मंदिर : क्या है सम्बन्ध दोनों मंदिरो के बीच ?

👉मामा भांजा मंदिर : ऐसा मंदिर जिसका निर्माण एक दिन में किया गया !

👉लक्ष्मण मंदिर : पुरे भारत में ईंटो से निर्मित पहला मंदिर 

Leave a Reply