संत धर्मदास के पद | Sant Dharmdas ke Pad Sant Dharmdas ke Rachnaye

संत धर्मदास के पद | Sant Dharmdas ke Pad Sant Dharmdas ke Rachnaye

(1)
गुरु पइयां लागवं नाम लखा दीजो हो।। टेक।।

जनम-जनम का सोया मनुवा, सब्दन मार जगा दीजो हो।
घट अंधियार नैन नहिं सूझे, ज्ञान का दीप जगा दीजो हो।
विष की लहर उठत घट अंतर, अमृत बूँद चुंवाय दीजो हो 
गहिरी नदिया अगम बोहाय, खेय के पार लगा दीजो हो।
धर्मदास की अरज गुसाई, अब की पार लगाय दीजो हो।

(2)
नैनन आगे ख्याल घनेरा।

जेहि कारन जग डौलत भस्मै, सो साहेब घट लीन्ह बसेरा।
का संझा का प्रात सबेरा, जहं देखूं तहं साहेब मेरा।
अस्थ-उरथ बिच लगन लगी है, साहेब घट मं कर लीन डेरा।
साहेब कबीर एक भाला दीन्हा, धरमदास घट ही बिच फेरा।

(3)
भजन करो भाई रे, अइसन तन पाय के।
नहि रहे लकापति रावन, नहि रहे दुर्योधन राई रे।
मात-पिता सुत ठाढ़े भाई-बंद, आयो जमराज पकर ले जाही रे।
 लाल खंभ पर देत ताड़ना, बिन सतगुरु को होत साई रे।
धरमदास के अरज गोसांई, नाम कबीर कहौ गोहराई रे।।

इन्हे भी पढ़े :

👉भोरमदेव मंदिर : दाढ़ी-मुछ वाले योगी की मूर्ति के पेट पर क्या लिखा है ? 

👉माता कौशल्या मंदिर : वह धरती जिसने भगवान राम की माता कौशल्या को जन्म दिया !

👉डीपाडीह मंदिर : सामंत की रानियाँ क्यों कूद पड़ी आग में ?

👉शिवरीनारायण के आस पास के अन्य सभी मंदिर ।

Leave a Reply