राजनांदगांव : ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड-19 के एक्टिव सर्विलेंस के लिए टीम का गठन करें – कलेक्टर

Rate this post

– कोविड-19 से सुरक्षा के लिए सैम्पलिंग बढ़ाने की जरूरत
– बाजार, चौक-चौराहों, पुलिस के जवानों, औद्योगिक संस्थाओं में जाकर सैम्पलिंग करने के दिए निर्देश
– कोरोना वारियर्स अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें
– 10 जनवरी से सभी फ्रंट लाईन वर्कर को लगेगा बूस्टर डोज
– कलेक्टर ने कोविड-19 के नये वेरिएंट ओमिक्रॉन के मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की ली बैठक

राजनांदगांव 08 जनवरी 2022

कलेक्टर श्री तारन प्रकाश सिन्हा ने आज कोविड-19 के नये वेरिएंट ओमिक्रॉन के मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की कलेक्टोरेट सभाकक्ष में बैठक ली। वीडियो कांफे्रसिंग के जरिए बीएमओ एवं बीपीएम जुड़े रहे। कलेक्टर ने कहा कि जिले में कोरोना के केस बढ़े हैं तथा कोरोना वायरस तेजी से कम्युनिटी स्प्रेड हो रहा है। कोविड-19 से सुरक्षा के लिए सैम्पलिंग बढ़ाने की जरूरत है। उन्होंने बाजार, चौक-चौराहों, पुलिस के जवानों, औद्योगिक संस्थाओं में जाकर सैम्पलिंग करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कोरोना पॉजिटिव आने वाले मरीजों का कॉन्टेक्ट टे्रसिंग करने के लिए 51 टीम फालोअप ले रही है। इस कार्य में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और मितानिनों की ड्यूटी लगी है। वैक्सीनेशन जरूर कराएं और सेंकेण्ड डोज जिन्होंने नहीं लगाया है वे जरूर लगाएं। उन्होंने कहा कि होम आईसोलेशन के मरीजों के लिए दवाईयों का वितरण एवं उनके स्वास्थ्य की जानकारी तथा फॉलोअप लेते रहे। कोरोना पॉजिटिव मरीजों का फॉलोअप लेकर खतरे को कम किया जा सकता है। 10 जनवरी से सभी फ्रंट लाईन वर्कर को बूस्टर डोज लगाया जाएगा। उन्होंने कहा कि हमारे कोरोना वारियर्स हमारे लिए अमूल्य है। जब वे स्वयं सुरक्षित रहेंगे तो दूसरों को सुरक्षित रखेंगे। इसलिए अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें। ग्रामीण क्षेत्रों में जमीनी स्तर पर एक्टिव सर्विलेंस के लिए टीम का गठन करें और कोरोना लक्षण वाले मरीजों को दवाईयों को वितरण करवाएं। इसके लिए माईक्रो लेवल प्लानिंग होनी चाहिए। इसके लिए गंभीरता से कार्य करें।
कलेक्टर श्री सिन्हा ने कहा कि जिले में कंट्रोल रूम सक्रिय है तथा 24 घंटे मरीज हेल्पलाईन नंबर से सहायता ले सकते हैं। यहां मरीजों को होम आईसोलेशन प्रबंधन, कोविड टीकाकरण, सैम्पलिंग एवं अन्य संबंधित जानकारी मिलेगी। बाहर से आने वाले लोगों का सैम्पलिंग होना चाहिए। ईलाज के लिए पहले से ही दवाईयों की किट एवं सभी आवश्यक उपकरण उपलब्ध होना चाहिए। ग्रामीण क्षेत्रों में सर्दी, खांसी एवं बुखार होने पर सैम्पलिंग लें तथा कोरोना के लक्षण वाले मरीजों को दवाईयों का वितरण कराएं। ग्रामीण क्षेत्रों में पहले से ही आवश्यक सावधानी बरतने की जरूरत है। नगरीय निकाय क्षेत्रों में सभी एसडीएम कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करने के लिए सख्ती बरतें।
जिला पंचायत सीईओ श्री लोकेश चंद्राकर ने कहा कि कोरोना के दूसरे डोज के लिए पहले से कार्ययोजना बनाकर मोबाईल टीम भेजे। बाजार, बस स्टैण्ड, रेल्वे स्टेशन एवं भीड़ के स्थानों में सैम्पल लेने के लिए कहा है। इस अवसर पर डीपीएम श्री गिरीश कुर्रे ने प्रजेन्टेशन के माध्यम से कोविड-19 के संबंध में आवश्यक सावधानियों के बारे में जानकारी दी। अपर कलेक्टर श्री सीएल मारकण्डेय, संयुक्त कलेक्टर श्री इंदिरा देवहारी, संयुक्त कलेक्टर श्रीमती निष्ठा पाण्डेय, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अल्पना लूनिया, मेडिकल कॉलेज अधीक्षक डॉ. संदीप चंद्राकर, एसडीएम राजनांदगांव श्री अरूण वर्मा, डीपीएम श्री गिरीश कुर्रे, स्वास्थ्य विभाग के श्री अखिलेश चोपड़ा एवं श्री ऐश्वर्व सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply