रायगढ़ जनरल नॉलेज रायगढ़ सामान्य ज्ञान Raigarh General Knowledge Raigarh Samanya gyan Raigarh GK

Rate this post

रायगढ़ जनरल नॉलेज रायगढ़ सामान्य ज्ञान Raigarh General Knowledge Raigarh Samanya gyan Raigarh GK

इतिहास

भारतीय स्वतंत्रता से पहले राज्य विलीनीकरण के पूर्व रायगढ़ रायगढ़ रियासत के क्षेत्र के रूप में जाना जाता था और वह रायगढ़ स्टेट कहलाता था। रायगढ़ से रेल्वे की मु य ब्रांच कलकत्ता से मुंबई लाईन गुजरती है और इसके उत्तर-दक्षिण, पूर्व-पश्चिम का क्षेत्र क्रमशः जबलपुर, जशपुर, धरमजयगढ़, सारंगढ़ स्टेट एवम् झारसुगड़ा, स बलपुर की सीमाओं से लगा था।

मध्यप्रदेश के पूर्वान्चल छत्तीसगढ़ में प्रकृति सुन्दरी की गोद में स्थित रायगढ़ रियासत की नींव आज से करीब 500 वर्ष पूर्व महाराजा मदनसिंह ने डाली थी। श्री भूपदेव सिंह आत्मज धनश्याम सिंह, 1894 में ज्युडिशियरी चीफ डिशियरी चीफ डिशियरी चीफ डिशियरी चीफ हुए थे जिन्हें ब्रिटिश शासन में राजा बहादुर की पदवी प्रदान की गई थी और वे रायगढ़ राज्य की व्यवस्था संचालन करते थे । ( रायगढ़ जनरल नॉलेज रायगढ़ सामान्य ज्ञान Raigarh General Knowledge Raigarh Samanya gyan Raigarh GK )

उनकी मृत्यु के उपरान्त कालान्तर में उनके छोटे पुत्र चक्रधर सिंह रायगढ़. के राजा साहब हुए। जिनकी मृत्यु उपरान्त उनके पुत्र राजा ललित कुमार सिंह रायगढ़ रियासत के अंतिम राजा हुए थे। आजादी के पूर्व रायगढ़ राज्य में अंग्रेजो का प्रत्यक्ष राज न होकर राजाओं का राज्य था भारत की आजादी के बाद भारतीय संघ में शामिल होने वाली पहली राज्य बनी जो मध्यप्रदेश राज्य में रायगढ़ जिले के रूप में शामिल किया गया।

रायगढ़ जिले का मुख्यालय है। रायगढ़ की तहसीलें धरमजयगढ़, घरघोडा, सारंगढ़, खरसिया व रायगढ़ हैं । 1854 में भोंसला राज्य खत्म होने पर ब्रिटिश शासन के प्रत्यक्ष प्रभाव में आने के बाद यहा की रियासतो और जमींदारियों के साथ पूर्व इकरारनामों और सनदो आदि का नवनीकरण किया गया 11864 से छत्तीसगढ़ की जमींदारियों के दो विभाग बने प्रथम वर्ग में समिलित जमीदारियों को रियासत का दर्जा दिया गया और उनके शासकों को राजा या “रुलिंग चीफ” कहा गया तथा दूसरे वर्ग की जमींदारियों को जमींदार कहा गया।

भूगोल और जलवायु

रायगढ़ में 21°.2300 ‘उत्तर तक डिग्री एन 838 ” 10’ 00″ पूर्व तक में स्थित है। यह 215 मीटर (705 , फुट) के एक • औसत ऊंचाई है। केलो नदी अपने मु य जल स्रोतों में से एक है, जो शहर के माध्यम से बहती है।

रायगढ़ जिला उत्तरी क्षेत्र जहां बिहड़, जंगल, पहाडियो से आच्छादित है। वही इसका दक्षिण हिस्सा ठेठ मैदानी है। जिले की बहुसं यक आबादी गांवों में निवास करते है। विरहोर इस जिले के विशिष्ट जनजाति है, जो धरमजयगढ़ क्षेत्र में निवास करते है। गोंड, कंवर, उरांव अन्य प्रमुख जनजातियों की सूची में शामिल है।( रायगढ़ जनरल नॉलेज रायगढ़ सामान्य ज्ञान Raigarh General Knowledge Raigarh Samanya gyan Raigarh GK )

रायगढ़ जिले में ऐतिहासिक दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण है। यहां सिंघनपुर, ओगना, करमागढ़ की पहाड़ियों तथा रायगढ़ के समीप कबरा पहाड़ प्रागैतिहासिक युग के मनुष्यों द्वारा निर्मित शैलचित्र पाये गये है। पुजारीपाली नामक गांव जो बरमकेला विकासखण्ड में है, पुरातात्विक दृष्टि से काफी प्रसिद्ध है।

अर्थव्यवस्था

छत्तीसगढ़ की सांस्कृतिक और औद्योगिक राजधानी । रायगढ़ एक शहर और नगर निगम है। रायगढ़ जिले के प्रशासनिक मु यालय है, वह अपने कोयला भंडार और बिजली उत्पादन के लिए राज्य के साथ-साथ देश के लिए जाना जाता है। यह भी स्टील और लोहे का एक प्रमुख उत्पादक मोहन जूट मिल, भारत में सबसे पुराना जूट मिलों में है।

रायगढ़ दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी और भारत की सबसे बड़ी स्पंज आयरन संयंत्र और 62 अन्य उद्योगों के लिए घर इस्पात बाजार के लिए एक बढ़ती औद्योगिक हब बन गया है। जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड रायगढ़ में स्थित एक प्रमुख इस्पात संयंत्र है।( रायगढ़ जनरल नॉलेज रायगढ़ सामान्य ज्ञान Raigarh General Knowledge Raigarh Samanya gyan Raigarh GK )

निदेशक, श्री नवीन है, जिंदल उद्यमशीलता को प्रोत्साहित करने कुछ उद्योगों को सस्ती बिजली उपलब्ध कराता है। शहर से 20 किलोमीटर (12 मील) मोनेट इस्पात एंड एनर्जी लिमिटेड है। रायगढ़ जिला चावल का एक प्रमुख उत्पादक है, जबकि तेंदु ग्रामीणों के लिए आय का प्रमुख स्रोतों में से एक है। जिले में एक प्रमुख चावल प्रसंस्करण उद्योग रायगढ़ फूड्स और होटल व्यवसाय प्राइवेट लिमिटेड है।

पर्यटन

रायगढ़ कोसा सिल्क, चावल के खेतों और जनजातियों के लिए जाना जाता है। निकट रायगढ़ में यात्रा करने के लिए जगह से पहाड़ Gajmar पहाड़ी पर मंदिर, राम झरना, तीपा खोल, मां चन्द्राहसिनी देवी मंदिर और बंजारी मंदिर हैं।

वन्यजीव अभयारण्य सारंगढ़ के पास स्थित है, जो रायगढ़ के रोचक और साहसिक स्थानों में से एक है। अभयारण्य 275 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। अभयारण्य में इस तरह के नीले बैल, सांभर, तेंदुआ, स्लॉथ बीयर, चिंकारा, जंगली कुत्ता, हिरण, जंगली सूअर के रूप में जंगली जानवरों की एक बड़ी सं या के लिए आश्रय प्रदान करता है, हिरण, हैना और लंगूर देखा ।

रायगढ़ छत्तीसगढ़ के पास प्रसिद्ध पर्यटक स्थल भी एक छोटा सा चिड़ियाघर इंदिरा विहार, सारंगढ़ के पास गोमर्दा वन्यजीव अभयारण्य, श्री श्याम मंदिर, रायगढ़ किले कहा जाता है और हाल ही में उर्दाना में साई बाबा मंदिर का निर्माण भी शामिल है।( रायगढ़ जनरल नॉलेज रायगढ़ सामान्य ज्ञान Raigarh General Knowledge Raigarh Samanya gyan Raigarh GK )

  1. राम झरना- यह लगभग 18 किलोमीटर है। जिला मु यालय से। यह एक प्राकृतिक जल स्रोत है। इतिहास के अनुसार भगवान राम एक बार उसकी Vanwas दौरान यहाँ किया गया था, और पानी के स्रोत से पानी पिया। इसलिए नाम झरना राम । यह एक बहुत अच्छा पिकनिक स्पॉट है।
  2. गोमर्डा अभयारण्य सारंगढ़ तहसील से 60 किलोमीटर में स्थित। जिला मु यालय से। यह 278 वर्ग में फैला हुआ है। कि.मी.। यह बाघ, बियर, आदि जैसे कई दुर्लभ जंगली जानवरों के लिए एक प्राकृतिक घर है
  3. मंदिर गौरीशंकर मंदिर, श्याम मंदिर, पाहाद मंदिर रायगढ़ में स्थित बंजारी मंदिर 20 किलोमीटर। जिला मु यालय से, मंदिर 30 किलोमीटर चन्द्राहसिनी। रायगढ़ से (चंद्रपुर में स्थित, जिला । जांजगीर-चांपा)

संस्कृति और विरासत

रायगढ़ छत्तीसगढ़ की सांस्कृतिक नगरी के नाम से प्रसिद्ध है। रायगढ़ अपनी कथक नृत्य विधा (रायगढ़ घराना) एवं शास्त्रीय संगीत के लिए प्रसिद्ध है । कथक और हिंदुस्तानी संगीत सम्राट चक्रधरसिंह जी का जन्म गणेश चतुर्थी के दिन संवत् 1862 में हुआ था ।( रायगढ़ जनरल नॉलेज रायगढ़ सामान्य ज्ञान Raigarh General Knowledge Raigarh Samanya gyan Raigarh GK )

राजा चक्रधर सिंह ने गणेश पूजा के दौरान रायगढ़ में विभिन्न • प्रकार की संगीत, साहित्य एवं खेलो का आयोजन कराया था जो कि निरंतर जारी है इस आयोजन को उन्ही के सम्मान में चक्रधर समारोह का नाम दिया गया है। चक्रधर समारोह में देश ङ्क विदेश के ख्याति प्राप्त संगीतकार, साहित्यकार एवं खिलाडी सिरकत करते है कथक और हिंदुस्तानी संगीत में उनके योगदान के लिए रायगढ़ घराना और चक्रधर समारोह की ख्याति पुरे देश में है।

हस्तशिल्प रायगढ़ में रेशम उद्योग

रायगढ़ में रेशम उद्योग अत्यधिक वृद्धि वाले उद्योगों में से एक तेजी से वृद्धि करने वाला उद्योग है। यहाँ पर दो तरह के रेशम तासर रेशम एवं मलबरी रेशम का उत्पादन किया जाता है। रेशम उत्पादन कई ग्रामीणों के आजीविका का मुख्य साधन है और जिले में कुछ ग्रामीणों ने बड़े पैमाने में रेशम का उत्पादन कर साड़ी और ड्रेस मटेरियल का उत्पादन कर विदेशो में भी एक्सपोर्ट कर रहे है।

रेशम का उत्पादन रेशम के कीड़ो द्वारा बनाये कोकून से किया जाता है। कोकून से प्राप्त रेशम का उपयोग रेशमी कपड़ो एवं मुख्यत: रेशमी साड़ियो के निर्माण में किया जाता है। रेशमी कपड़े बहुत ही मुलायम एवं मजबूत होते है. रायगढ़ में अच्छी तरह से अपनी ‘कोसा’ या तसर, शहतूत फल पर रेशम कीड़ा खिला द्वारा बनाई ठीक रेशम का एक प्रकार के लिए जाना जाता है। कोसा (एक अच्छी गुणवत्ता रेशम) के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध, रायगढ़ छत्तीसगढ़ राज्य में स्थित एक खूबसूरत विरासत शहर है।( रायगढ़ जनरल नॉलेज रायगढ़ सामान्य ज्ञान Raigarh General Knowledge Raigarh Samanya gyan Raigarh GK )

ढोकरा आर्ट

जिले में ढोकरा आर्ट प्रसिद्ध है जिसे झारा आदिवासी द्वारा बड़े पैमाने पर बनाया जाता है। ढोकरा आर्ट में बेल मेंटल, ब्रांज और ब्रास धातुओं से मोम का उपयोग कर विभिन्न प्रकार के मूर्ति प्रतिरूप तैयार किया जाता है। एकताल के गांव में आधार पर, घंटी धातु संरचनाओं उनके सौंदर्य मूल्य के लिए विख्यात रहे हैं।

Leave a Comment