Poetics by Aristotle Summary in Hindi | Poetics in Hindi by Aristotle

3.5/5 - (13votes)

Poetics by Aristotle Summary in Hindi

दोस्तों Aristotle को हिंदी में अरस्तु कहा जाता है , इनके गुरु plato ने एक किताब लिखी थी , “The Republic” जिसमे plato ने कहा था की poetry और poets , meaningless  होते है , क्योकि जो poet  होते है , वे समाज के किसी काम नहीं आते है, उनकी poetry  मात्र एक दिखावे की चीज होती है , लेकिन इन बातो को Aristotle नहीं मानते थे , इसके response  में aristotle ने यह बुक लिखी है “Poetics” ( Poetics by Aristotle Summary in Hindi  )

इस पुरे Book  में Aristotle ने Tragedy और Epic  poetry  के बारे में बताया है । 

इन्हे भी पढ़े :-

Aristotle एक ग्रीक , Philosopher थे , जिनका जन्म 384BC में हुआ था , इनके Literary Criticism के अंदर इस काम को First  great  work  माना जाता है , इस बुक में Aristotle  ने 3 forms  के बारे में बताया है :-

  1. Tragedy
  2. Comedy
  3. Epic

Aristotle अलग अलग type  के poetry  के बारे में बात करते है , वह यह बताते है की एक अच्छी poem  का structure  कैसे होना चाहिए इसके बारे में बताते है , और एक अच्छी poem  को कैसे divide  करना चाहिए इसके बारे में बताते है । ( Poetics by Aristotle Summary in Hindi  )

इन्हे भी पढ़े :-

Aristotle  कहते है की “Poetry is an art of imitation”(imitation  का मतलब होता है नक़ल करना ) वो कहते है की किसी characters  की , उसकी emotions  की उसकी रोजमर्रा की जिंदगी की , उसके daily  life  में जो भी हो रहा है उसे लिखकर बताना ही poetry  है । ( Poetics by Aristotle Summary in Hindi  )

Poetry  अलग- अलग प्रकार की होती है , जैसे epic  Poetry  , Tragedy  Poetry  , comedy  Poetry  music  Poetry  अदि । Aristotle  कहते है की जो Poetry  है वो दो भागो में बात चुकी है :-

  1. For Nobles :- ऐसी कविताये जो बड़े बड़े राजा महाराजा , आमिर पैसे वाले लोगो के लिए लिखी जाती है ।
  2. For means :- ऐसे कविताये जो साधारण लोगो के लिए लिखी जाती है ।

इन्हे भी पढ़े :-

इस बुक के अंदर Aristotle  ने tragedy  और comedy  दोनों के बारे में बताया है लेकिन ज्यादा focus ,  tragedy  पर ही दिया है , comedy  पर बहुत कम ही focus  किया है , क्योकि उस वक्त comedy  को ज्यादा serious  नहीं लिया जाता था , क्योकि comedy  के जो characters  होते थे , वे छोटे गंदे , किसी भी जगह के रहते थे , लेकन वही पर tragedy  के characters ,  Noble  जगहों से ही होते थे , tragedy  में दुःख , दर्द होना जरुरी था । ( Poetics by Aristotle Summary in Hindi  )

Aristotle  ने इस बुक में mainly  tragedy  और epic  Poetry  के बीच में फर्क बताया है और जमकर लिखा है , Aristotle  कहते है , की epic  Poetry  में कोई limit  नहीं होती है , इसे कितना लम्बा भी खींच सकते है , जबकि tragedy  में limit  होआ है , इसे इतने टाइम में ही ख़त्म किया जायेगा , Tragedy  को perform  किया जाता है जबकि वही epic  Poetry  को narrate  किया जाता है ।( Poetics by Aristotle Summary in Hindi  )

इन्हे भी पढ़े :-

Aristotle  के हिसाब से tragedy  में 6 characters  होते है :-

  1. Plot
  2. character
  3. Thought 
  4. Diction
  5. Song
  6. Spectacle

इसमें सबसे ज्यादा जरुरी plot  को ही माना जाता है , यह किसी भी Poetry /story/fiction की जान होती है ।

Tragedy  जो होती है वो किसी particular  जगह के लिए लिखी जाती है , जबकि वही epic  Poetry  किसी जगह के लिए नहीं होती है , Aristotle  यह भी कहते है की poet  को चीजों को वैसे ही copy  करना चाहिए जैसे वह है , गलतिया तभी होती है जब imitation  के समय poet  ने गलती की हो । ( Poetics by Aristotle Summary in Hindi  )

tragedy  को dramatic  form  में दिखाया जाता है , जबकि epic  Poetry  को words  , narration  के form  में सुनाया जाता है , Aristotle  ने tragedy  को epic  Poetry  से बड़ा बताया है ।

कठिन शब्द जिनके हिंदी मतलब :-

  1. Tragedy:-दुखांत नाटक, त्रासदी, शोकांतिका , a serious play that has a sad ending , बहुत दुखद घटना या स्थिति )
  2. Epic  poetry:-महाकाव्य,कुछ नायकों के कार्यों का जश्न मनाते हुए कविता, 
  3. Noble :- महान
  4. Plot :-नाटक या उपन्‍यास का कथानक, कथावस्‍तु
  5. Diction :-शब्‍द एवं शब्‍द समूह का भाषण और लेख में सही चुनाव और प्रयोग
  6. Spectacle :-प्रभावशाली या विक्षोभकारी दृश्‍य; नज़ारा ( Poetics by Aristotle Summary in Hindi  )

इन्हे भी पढ़े :-

Leave a Comment