एक किसिम के नियाव | Ek Kisim ke Niyav by Vinay Kumar Pathak

Rate this post

एक किसिम के नियाव | Ek Kisim ke Niyav by Vinay Kumar Pathak 

(1)
चैतू
गौटिया यह
सबो दूध ला
अमरा देते
घर-भर के सबो
दाना दाना बार तरसते
अउ उपास म घर के
दूध घलो नई पा सके 

(2)
बैसाखू
सेठ इहाँ जाके
जांगर पेर के
महल अटारी बनाथे
घर भर के सबो
छाँव भर कलापथे
फेर माटी के बेटा
माटी के घर-कुरिया नई बना सकै।

(3)
जेठू
महाजन इहाँ
सूत के ओढ़ना बनाके
दे आथे
घर भर के सबो
चेंदरी बर लुलुवाथे
इज्जत ढाँके बर
जुन्ना कपड़ा घलाव नइं पा सकै।

(4)
पुसउ
गाँव म
बिसनु भगवान के मंदिर
बनाथे
घर भर के सबो
भगवान के दरसन
अउ परसाद बर तरसथें
अउ तो अउ वो हर
मंदिर के डेहरी नई चघ सकै। 

(5)
चैतू भूख म
बैसाखू घाम म
जेठू इज्जत्त म
जांगर चलात-चलात अकड़ के मर जाथे
अउ पुसउ जाड़ म
बिधाता के एहू
एक किसिम के नियाव आय
अपन भगत सो बलि लेके।
या उनला संसार के दुःख
ले उबारे के।

इन्हे भी पढ़े :-

👉जैन मंदिर : राजपूत राजाओ द्वारा बनाये गए जैन मंदिर 

👉विष्णु मंदिर : कलचुरी शासको द्वारा बनाया गया अब तक का जबरजस्त मंदिर !

👉गणेश मंदिर  : पुत्री उषा और चित्रलेखा की कहानी !

👉दंतेश्वरी मंदिर : 52वा शक्तिपीठ जिसके बारे में बहुत हिन्दू नहीं जानते !

👉हटकेश्वर महादेव मंदिर : जिसे मुग़ल भी नहीं तोड़ पाए !

👉राजीव लोचन मंदिर : कुम्भ से भी अनोखा है यहाँ का अर्धकुम्भ !

👉खल्लारी माता का मंदिर : जहा भीमपुत्र घटोच्कच का जन्म हुआ , कौरवो ने पांडवो को मरने के लिए लाछागृह भी यही बनवाया था !

👉देवरानी और जेठानी मंदिर : क्या है सम्बन्ध दोनों मंदिरो के बीच ?

👉मामा भांजा मंदिर : ऐसा मंदिर जिसका निर्माण एक दिन में किया गया !

👉लक्ष्मण मंदिर : पुरे भारत में ईंटो से निर्मित पहला मंदिर 

Leave a Comment