छत्तीसगढ़ी गजल मुकुंद कौशल | Chhattisgarhi Gajal by Mukund kaushal

छत्तीसगढ़ी गजल मुकुंद कौशल | Chhattisgarhi Gajal by Mukund kaushal

(1)
छै बित्ता के मनखे देखौ, का का जिनिस बिसा लेथे ।
आगी पानी पवन अकासा, भुंइया तको नँगा लेथे ।।

(2)
चारो डहर सवाल उगे हे , मुड़ उचाये करगा कस ।
यैला लू के सफल किसनहा, हर जुबान सिरजा लेथे ।।

(3)
पीरा अपने आप टहल जाथे बेरा के धरकत ले।
उखड़े ह्रदय जमाना संगी , जै पीरा संग गा लेथे ।।

(4)
हिजगा पारी के बाजार माँ , परमारथ के मोल कहा ।
हास् के गुरतुर भाखा बोले , यही परमपद पा लेथे ।।

(5)
समय पड़े हे सम्हारे बर अउ चिक्कन कोरे गाथे बर,
चतुरा मन हर ठउँका बेरा , चुंदी ला पाटिया लेथे ।।

(6)
दिन दुकाल ला हास् के सहिये , छत्तीसगढ़ के भुइया हर ।
महतारी मन गरा-धुंका , अचरा मा गठिया लेथे ।।

(7)
जम्मो साध चुरौना बोरव, एक साथ के खातिर मै।
एक डिसा के उड़त परेवा , ठिया ला अमरा लेथे ।।

(8)
उनखर तीर ओंधे के पहिली , सुन ले कौशल गोठ हमर ।
बड़े-बड़े मछरीमन छोटे , मछरी मन ला खा लेते ।।

इन्हे भी पढ़े :

👉महामाया देवी मंदिर : यहाँ 31 हजार ज्योति कलश क्यों जलाते है श्रद्धालु !

👉शिवरीनारायण मंदिर : जहा भगवान राम ने खाये थे शबरी के झूठे बेर ।  

👉माँ बम्लेश्वरी मंदिर : आखिर क्यों तालाब में कूदी थी कामकंदला ?

👉नगपुरा जैन मंदिर : राजा गज सिंह ने 108 जैन मुर्तिया बनाने की प्रतिज्ञा क्यों ली ? 

👉भोरमदेव मंदिर : दाढ़ी-मुछ वाले योगी की मूर्ति के पेट पर क्या लिखा है ? 

👉जैन मंदिर : राजपूत राजाओ द्वारा बनाये गए जैन मंदिर 

👉विष्णु मंदिर : कलचुरी शासको द्वारा बनाया गया अब तक का जबरजस्त मंदिर !

👉गणेश मंदिर  : पुत्री उषा और चित्रलेखा की कहानी !

👉दंतेश्वरी मंदिर : 52वा शक्तिपीठ जिसके बारे में बहुत हिन्दू नहीं जानते !

👉हटकेश्वर महादेव मंदिर : जिसे मुग़ल भी नहीं तोड़ पाए !

Leave a Reply