छत्तीसगढ़ को प्राप्त कुल राष्ट्रीय पुरस्कार | Chhattisgarh ko Prapt Kul Rashtriya Puraskar

3.5/5 - (35votes)
Chhattisgarh Ko ab tak Kul Kitne Rashtriya puraskar Mile hai
Chhattisgarh Ko ab tak Kul Kitne Rashtriya puraskar Mile hai

छत्तीसगढ़ को प्राप्त कुल राष्ट्रीय पुरस्कार | Chhattisgarh ko Prapt Kul Rashtriya Puraskar

विद्यार्थीओ आज कल हम देख रहे है ( छत्तीसगढ़ को प्राप्त कुल राष्ट्रीय पुरस्कार | Chhattisgarh ko Prapt Kul Rashtriya Puraskar ) की हमारी छत्तीसगढ़ के कार्यो को देखते हुए , केंद्र सरकारे , या फिर कहे राष्ट्रीय संस्थांए हमारे प्यारे छत्तीसगढ़ को बहुत सारे पुरस्कार दे चुकी है , और ये पुरस्कार किसी चल रहे योजनाओ को या , किसी अच्छे कार्य को देखते हुए दिया जाता है , इसमें से CGPSC में Pre तथा mains और Interview में भी पूछे जाते है । तो चलिए आज हम आपको बताते है की छत्तीसगढ़ को अब तक कुल कितने राष्ट्रीय पुरस्कार मिले है ?

छत्तीसगढ़ को अब तक प्राप्त राष्ट्रीय पुरस्कार – 2022

छत्तीसगढ़ स्कूल शिक्षा विभाग को CSI-ISG E-Governance Award 

क्यों मिला : छत्तीसगढ़ राज्य को यह अवार्ड स्कूली बच्चों के आंकलन एवं अभ्यास कार्य को आसान बनाने के लिये लागू टेली-प्रेक्टीज के लिये रिकग्निशन कैटेगरी में प्रदान किया गया है।

कहा मिला :प्रयागराज, स्थित मोतीलाल नहरूल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में

अवार्ड : 19वाँ सीएसआई-एसआईजी अवार्ड -2021 , यह CSI-ISG ई-गवर्नेस अवार्ड प्रतिष्ठित राष्ट्रीय स्तर का पुरस्कार है, जो कंप्यूटर सोसाइटी ऑफ इंडिया द्वारा सर्वश्रेष्ठ ई-गवर्नेस में किये गए नवाचारों को स्वीकार करने के लिये दिया जाता है। ( छत्तीसगढ़ को प्राप्त कुल राष्ट्रीय पुरस्कार | Chhattisgarh ko Prapt Kul Rashtriya Puraskar )

किसे मिला : छत्तीसगढ़ के स्कूल शिक्षा विभाग

मलेरिया में गिरावट के लिए सम्मान – 25 अप्रैल 

क्यों मिला : 25 अप्रैल 2022 को , विश्व मलेरिआ दिवस के अवसर पर नई दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ को मलेरिया में गिरावट के लिए सम्मानित किया गया ।

आयोजन कहा हुआ था  : दिल्ली

क्यों मिला : राज्य में मलेरिया मुक्त छत्तीसगढ़ अभियान और मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान के माध्यम से एपीआई दर (Annual Parasite Incidenceh) यानी प्रति एक हजार की आबादी में सालाना मिलने वाले मलेरिया के मरीजों की संख्या) में बड़ी गिरावट दर्ज की गई । राज्य के एपीआई दर पर एक नजर : वर्ष 2018 में जहाँ प्रदेश की एपीआई, 2.63 थी, वहीं 2021 में घटकर 0.92 पर पहुँच गई है।

शुरुआत : जनवरी-फरवरी 2020 (बस्तर संभाग के सातों जिलों में संचालित)

  • स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग तथा राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, छत्तीसगढ़ द्वारा यह अभियान चला
  • जनवरी-फरवरी-2020 में बस्तर संभाग के सातों आकांक्षी जिलों में मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान का पहला चरण संचालित किया गया था।

अभियान का उद्देश्य : बस्तर से मलेरिया को खत्म करना है और कुपोषण जैसी चुनौतियों का भी उपाय ढूंढना है।

  • बस्तर संभाग में इस अभियान को पाँच चरणों में चलाया गया।
  • इसके तहत घर-घर जाकर लोगों की मलेरिया जाँच की गई।
  • वर्ष 2021 में एपीआई दर (Annual Parasite Incidenceh) घटकर 7.07 हो गई।

मलेरिआ मुक्त बस्तर अभियान का विस्तार :

  • बस्तर संभाग में अ के अच्छे असर को देखते हुए मलेरिया मुक्त छत्तीसगढ़ अभियान के तहत इसे प्रदेश के कुल 21 जिलों में विस्तारित किया गया है।( छत्तीसगढ़ को प्राप्त कुल राष्ट्रीय पुरस्कार | Chhattisgarh ko Prapt Kul Rashtriya Puraskar )
  • वर्ष 2021 में मलेरिया मुक्त छत्तीसगढ़ अभियान चलाया गया।
  • इसके तहत स्वास्थ्य विभाग के अनुसार राज्य में 2030 तक राज्य को मलेरिया मुक्त करने का लक्ष्य रखा गया है।
  • सरकारी आंकड़ों के अनुसार मलेरिया मुक्त छत्तीसगढ़ अभियान के पांच चरणों में अब तक प्रदेश में कुल 87.84 लाख से अधिक मलेरिया जांच की गई है।

राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार- 24 अप्रैल  

अवार्ड : दीनदयाल उपाध्याय पंचायत ससक्तिकरण पुरस्कार कबीरधाम को मिला , चाइल्ड फ्रेंडली ग्राम पंचायत अवार्ड बनचरौदा, रायपुर को मिला , ग्राम पंचायत डेवलपमेंट प्लान अवार्ड -जेवरा, दुर्ग को , नानाजी देशमुख राष्ट्रीय गौरव ग्राम पुरस्कार सरोरा, रायपुर को मिला.( छत्तीसगढ़ को प्राप्त कुल राष्ट्रीय पुरस्कार | Chhattisgarh ko Prapt Kul Rashtriya Puraskar )

क्यों मिला : देश भर में सर्वश्रेष्ठा प्रदर्शन करने वाले पंचायत के लिए ।

आयोजन कहा हुआ था  : दिल्ली,

किसने दिया : पंचायती राज मंत्रालय , प्रधानमंत्री मोदी ने

 किसे मिला : कबीरधाम , बनचरौदा, रायपुर को  , जेवरा, दुर्ग को , सरोरा, रायपुर को

गोधन न्याय योजना – 19 अप्रैल 

अवार्ड : छत्तीसगढ़ में चल रहे गोधन न्याय योजना को राष्ट्रीय एलेट्स इनोवेशन अवार्ड 19 अप्रैल 2022 को मिला ।

क्यों मिला : छत्तीसगढ़ राज्य को कृषि में इनोवेशन केटेगरी में यह अवार्ड प्रदान किया गया,

आयोजन कहा हुआ था  : एलेट्स आत्म निर्भर भारत समिट , दिल्ली( छत्तीसगढ़ को प्राप्त कुल राष्ट्रीय पुरस्कार | Chhattisgarh ko Prapt Kul Rashtriya Puraskar )

किसने दिया : एलेट्स टेक्नोमीडिया प्राईवेट लिमिटेड के संस्थापक, सीईओ एवं एडीटर इन चीफ श्री डॉ. रवि गुप्ता एवं टेक्सटाइल मंत्रालय भारत सरकार के सचिव श्री यू.पी. सिंह।

प्राप्तकर्ता : सचिव एवं राज्य नोडल अधिकारी छत्तीसगढ़ की ओर से यह अवार्ड संयुक्त संचालक श्री आर.एल. खरे। 

सूरजपुर जिले को – 29 मार्च 

अवार्ड : राष्ट्रीय स्तर पर सर्वश्रेष्ठ ग्राम पंचायत का द्वितीय पुरस्कार, 29 मार्च 2022 को मिला

क्यों मिला : बेहतर जल संरक्षण एवं प्रबंधन के लिए सूरजपुर जिले की छिंदिया ग्राम पंचायत को राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कृत किया गया

किसने दिया : भारत सरकार का जल शक्ति मंत्रालय( छत्तीसगढ़ को प्राप्त कुल राष्ट्रीय पुरस्कार | Chhattisgarh ko Prapt Kul Rashtriya Puraskar )

प्राप्तकर्ता :छत्तीसगढ़ राज्य के सूरजपुर जिले की ग्राम पंचायत छिंदिया

छत्तीसगढ़ की आदिवासी महिलाये – 21 मार्च  

क्यों मिला : फ़ूड प्रोसेसिंग के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने पर , केंद्र सर्कार ने छत्तीसगढ़ की आदिवासी महिलाओ को 21 मार्च 2022 को सम्मानित किया गया । 

आयोजन कहा हुआ था : नई दिल्ली( छत्तीसगढ़ को प्राप्त कुल राष्ट्रीय पुरस्कार | Chhattisgarh ko Prapt Kul Rashtriya Puraskar )

किसने दिया : भारत सरकार के सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय,एमएसएमई के राज्यमंत्री भानु प्रताप सिंह वर्मा

प्राप्तकर्ता : छत्तीसगढ़ की आदिवासी महिलाओं

NOTE: अभी 2021 एवं  2019 की राष्ट्रीय पुरस्कार भी इसी में जोड़े जाएगे ।

VIP GROUP FOR VIP PEOPLE

छत्तीसगढ़ को प्राप्त कुल राष्ट्रीय पुरस्कार | Chhattisgarh ko Prapt Kul Rashtriya Puraskar

छत्तीसगढ़ को प्राप्त कुल राष्ट्रीय पुरस्कार | Chhattisgarh ko Prapt Kul Rashtriya Puraskar

छत्तीसगढ़ को प्राप्त कुल राष्ट्रीय पुरस्कार | Chhattisgarh ko Prapt Kul Rashtriya Puraskar

छत्तीसगढ़ को प्राप्त कुल राष्ट्रीय पुरस्कार | Chhattisgarh ko Prapt Kul Rashtriya Puraskar

छत्तीसगढ़ को प्राप्त कुल राष्ट्रीय पुरस्कार | Chhattisgarh ko Prapt Kul Rashtriya Puraskar

छत्तीसगढ़ को प्राप्त कुल राष्ट्रीय पुरस्कार | Chhattisgarh ko Prapt Kul Rashtriya Puraskar

 

विद्यार्थीओ अंत में मैं राजवीर सिंह , हमारे पोस्ट को इतने देर तक पढ़ने के लिए , हमारे सोशल मिडिया अकौंट्स में जुड़ने के लिए , हमारे ब्लॉग को दायी ओर की नीली घंटी दबा के हमें सब्सक्राइब करने के लिए , हमारे साथ इतने देर तक जुड़े रहने के लिए आपका हाथ जोड़ के धन्यवाद् करता हु .

इन्हे भी पढ़े :-

👉माँ मड़वारानी मंदिर : आखिर क्यों मंडप छोड़ भाग आयी थी माता मड़वारानी 

👉पाताल भैरवी मंदिर : शिव , दुर्गा , पाताल भैरवी एक ही मंदिर में क्यों है ?

👉फणीकेश्वरनाथ महादेव मंदिर : सोलह खम्बो वाला शिवलिंग अपने नहीं देखा होगा !

👉प्राचीन शिव मंदिर : भगवन शिव की मूर्तियों को किसने तोडा , और नदी का सर धार से अलग किसने किया ?

👉प्राचीन ईंटों निर्मित मंदिर : ग्रामीणों को क्यों बनाना पड़ा शिवलिंग ?

👉चितावरी देवी मंदिर  : शिव मंदिर को क्यों बनाया गया देवी मंदिर ?

👉शिव मदिर : बाली और सुग्रीव का युद्ध करता हुआ अनोखा मंदिर !

👉सिद्धेश्वर मंदिर : आखिर त्रिदेव क्यों विराजमान है इस मंदिर पर ?

👉मावली माता मंदिर : महिसासुर मर्दिनी कैसे बन गयी मावली माता ?

👉कुलेश्वर मंदिर : ब्रह्मा, विष्णु , शंकर के रचयिता अदि शिव का मंदिर 

👉चंडी माता मंदिर : विचित्र ! पत्थर की स्वयंभू मूर्ति निरंतर बढ़ रही है !

👉खरौद का शिवमंदिर : लक्ष्मण जी ने क्यों बनाये थे सवा लाख शिवलिंग ?

👉जगननाथ मंदिर : चमत्कार ! पेड़ का हर पत्ता दोने के आकर का कैसे ?

Leave a Comment