शुक्र एक ग्रह है तो फिर उसे संध्या या भोर का तारा क्यों कहते हैं?

Rate this post

यह नामकरण उसके ग्रह होने की जानकारी होने के पूर्व किया गया होगा या फिर आम आदमी को, विशिष्ट रूप से कवियों को, ग्रह व तारों के बीच का फर्क मालूम ना होने से किया गया होगा।

पृथ्वी की अपेक्षा सूर्य के पास होने से हमें वह हमेशा सूर्य के निकट ही दिखता है और इसलिये या तो प्रातःकाल या संध्या के समय दिखता है।

Leave a Reply