वस्तुएं अलग-अलग रंगों में क्यों दिखाई देती हैं ?

Rate this post

हम कोई वस्तु तब देख पाते हैं जब वह स्वयं प्रकाशित हो या फिर उस पर पड़ने वाली प्रकाश की किरणें बिखर कर उनमें से कुछ हमारी आँखों तक पहुँच रहीं हों।

प्रथम स्थिति में उस वस्तु द्वारा विकिर्णित प्रकाश का तरंग दैर्ध्य उसका रंग निश्चित करते हैं, जैसा की प्रश्न 1 में समझाया गया है। दूसरी स्थिति में वह वस्तु कुछ विशिष्ट दैर्ध्य की तरंगों का शोषण करती है।

और हम केवल बची तरंगें देख पाते हैं जो वस्तु का रंग निश्चित करती हैं। इस तरह पहली स्थिति में हमें कुछ तरंग दैयों के जोड़ से रंग दिखते हैं जबकि दूसरी स्थिति में घटाव के कारण।

Leave a Reply